सोमवार, 22 नवंबर 2010

बेटी ही संसार

चल  रहा  निर्देश ,नीति   प्रवचन  ,                  
मा-पिता श्री , के   समक्ष ,
गंभीर ,वातावरण ,घोर  चिंता ,  का    विषय ,  
पुत्र -हीन  होना    /
समाज  का  प्रतिनिधि ,मुखरित --धारा -प्रवाह - --
पुत्र -रत्न  ही   वांछित  !  कुलदीपक  होता  है  /
कन्या  चिराग  नहीं   बनती  /
वांछित  हैं      ---
संस्कार  ,  निर्देश  /
"उरीण " होना  होगा ! " पित्री -ऋण  "से  , नीति  ,समर्थित    है   /
पित्री -   ऋण   को    चुकाना     होगा    /
एक      कुल   पीछे     एक    आगे   को  सवारना  है  तो     
पुत्र  -रत्न   पाना  होगा   /
****        *****       *****     
यक्ष -प्रश्न ,  उद्वेलित  करते  हैं   -----
देगा    कौन ?   अर्थी  को  स्कंध ?
देगा  कौन  मुखाग्नि ?
चिता  परिहास  करेगी   /
* कन्यादान  होता  है     !
बेटा - दान  नहीं  होता    /
पुत्र   ,सर्वस्वा  सदैव  संग  होता  है    ,
पिंड  -दान   करनेवाला    /
* कन्या  होती   है  , परायी   ----
दौलत  ,प्रतिष्ठा  ,सम्मान  ,खोने  का सबब ,     
  पगड़ी  पराये  पैरों  में , रखने  का   कारण   /
*धवल     चादर  होती   है  ,
लगी  नहीं  दिखती  है  पहले    ,
जाने  कब  लग  जाये  दाग    ?
यहीं  अंत  होता  है   कुल  का  !
* चलता  रहा    प्रयास  कुल - दीपक  को   पाने  का    /
माँ  की  गोंद भरी     /
एक  नहीं  ,कई  बार  , बेटी  आई  कोख ! 
हर  बार ,  दी  गयी  मार   !
जन्म लेने  से  पहले  ,कभी  जन्म  लेने  के   बाद /
छीन  लिया  मेरा    बचपन  ,यौवन   दर्शन ,
जिसकी  में  नहीं  हक़दार      /
में  रोती रही !   कहती   रही  -----------
आम्मां मैनू  बांचो  !  किताबों  से   ज्यादा  ,
दिल  की  गहराईयों  में  उतरकर,
उतरन   नहीं ,  तेरे  कर   की   हूँ  कंगन  ,
कागज  की  नैया  ना  , गुड़िया हूँ  तेरी  /
तोड़  फेंकों  नहीं   ,खिलौने  सृजन  के  /--------
तोड़  देंगे   हृदय  ,  छोड़  जायेंगे  सब   /
साथ  होगी  तड़फ   ,याद   आयेंगे   हम  /
करती   पूजा  ,दुर्गा , सरस्वती,   देवियों   की   !
पुत्र  मांगती   है , एक   औरत  से  औरत  !  
क्या  उलझन  है  मन की , सुलझाओ  माये    ?
देख  बेटियां  खड़ी हैं   पर्वत  -शिखर  पर  /
किरण  ,कल्पना  ,प्रतिभा , उषा , दिया  है   ,
झूठी  ,प्रतिष्ठा   में  क्यों  जल  रही  है   ?
*नानी   ने  दिया   था  दुलारों  का  थप्पड़     ,
तुने  तो  मारा  अपनी   बेटी   को  खंजर    ! 
पूछ  लेना   ,जरा  मेरी  दादी  से  एक दिन  ,
बाबुल,  डोली  सजाया  ,या  अर्थी  उठी  थी   ?
उत्तर  मिले  तो  हमें  भी  बताना  ------
लाज   आये  जरा  भी  तो  ,
बेटी    बचाना    !-------

                           उदय  वीर  सिंह   .
                               २१ /११ /२०१०


      

8 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत अच्छी और विचारणीय प्रस्तुति

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना का लिंक मंगलवार 23 -11-2010
को दिया गया है .
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


http://charchamanch.blogspot.com/

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत ही सुंदर.... मनोभावों को खूब प्रस्तुत किया.... बधाई
कुछ पंक्तियाँ आँखें नम कर गयीं ......

अनुपमा पाठक ने कहा…

मार्मिक शब्द चित्रण!!!
विचारपूर्ण!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 29 -09 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में ...उगते सूरज ..उगते ख़्वाबों से दोस्ती

सदा ने कहा…

बहुत ही भावमय करती शब्‍द रचना ।

रेखा ने कहा…

मार्मिक और हृदयस्पर्शी ...

रेखा ने कहा…

मार्मिक और हृदयस्पर्शी ...