रविवार, 14 नवंबर 2010

** जोड़ सको तो जोड़ **

दिल के  अरमान  , कोमल  ना छेड़े कोई  -------
ना    जोड़े   कोई  तो, ना   तोड़े      कोई   ------
            वस्    में    नहीं  मैं , बनू      चन्द्रमा  ,
            घर      सितारों   के     जाकर    रहूँ   /
            दूर प्रियतम से, बेबस  खिली  चन्द्रिका  ,
            पीर  दिल की ,   मैं      किससे    कहूं   /
टूटे  -  दर्पण   में   चेहरा  ना   देखे     कोई  -----------
           चांदनी    रात   आती   है अब फिर नहीं  ,
           पुष्प    महंकेगे       किसके       लिए  ?
           चला     जो   गया , ले   बसंती फिज्जां 
           कोयल    गाए   तो     किसके    लिए   ?
दर्द-ए प्रीतम    का ,दिल   से , ना   निचोड़े कोई  -------
           दिल   पवन है , दरिया है जो बहता सदा ,
            रोक      पायेगा      कैसे         कोई    ? 
           दिल धड़कन ,जीवन है, सलिल प्यार का  ,
            खाक      कर    देगा    कैसे        कोई ?      
धार   , उलटी   गंगा की   ना  मोड़े कोई    -----
हाँथ    मजधार    में  ले  ,ना ,छोड़े     कोई ------------

                                                उदय वीर सिंह .
                                                 १३/११/२०१०. 

4 टिप्‍पणियां:

विरेन्द्र सिंह चौहान ने कहा…

बहुत बढ़िया और सार्थक प्रस्तुति. आभार.

ana ने कहा…

बहुत बढ़िया

ZEAL ने कहा…

beautiful creation.

संजय भास्कर ने कहा…

truly brilliant..
keep writing......all the best