रविवार, 14 नवंबर 2010

** जल रहे, जला रहे **

वे  दिए  जला  रहे हैं     ,हम   दिल  जला  रहे हैं  /
 मंदिर में सिर झुकाकर, मधुशाला   में जा  रहे  हैं -----------
                           कुछ आँचल जला हुआ है ,कुछ आँचल सवाली है  ,
                            क्यों   पतझड़ में पल रही ?  फूलों   की   डाली   है
कांटे  मुस्करा रहे हैं ,हम  आंसू  बहा  रहे  हैं  ------------------
                           नीले  गगन  के छांव  में , करता  है कोई बसेरा  ,
                           मंजिल  को  याद  करके करता है  कोई  सवेरा   /
वो  मंजिल को जा रहे हैं , हम  मंजिल  बुला  रहे  हैं  ---------------------
                           वो अपना है ,ए पराया ,यह   बाँट  क्यों  रहे हैं ? ,
                           इन्सान  बनना  हमको  , शैतान   बन  रहे   हैं   /
वो खुशिंयां लूटा रहे हैं ,हम  खुशिंयां जला  रहे हैं  -------------------------
                           संभव है   दो किनारों ,पुलों  से  तेरा  मिलना  ,
                           चमन  हरा रहेगा  ,दरिया   के  साथ  चलना  /
वो  उपवन  सजा  रहे हैं , हम पतझड़   बुला    रहे  हैं  ------------------------
                          चाँद   पर  जानेवाले  विकासवाद   बो  रहे हैं  ,
                          आपस में  लड़ने वाले  ,अलगाववाद ,  बो रहे हैं  /
सब   कांटे, जला  रहे  हैं हम ,माली  जला  रहे हैं   -----------------------
                           गंगा   को अपने  हांथों गन्दा   हम  कर रहे हैं  ,
                          संस्कृति  को  अपने हांथों  ,नंगा  हम कर रहे हैं  /
उदय , दिवाली  मना रहे हैं  ,हम घरवाली  जला  रहे  हैं ---------------------

                                                                 उदय वीर सिंह .
                                                               १३/११/२०१०.

2 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

गंगा को अपने हांथों गन्दा हम कर रहे हैं ,
संस्कृति को अपने हांथों ,नंगा हम कर रहे हैं /
उदय , दिवाली मना रहे हैं ,हम घरवाली जला रहे हैं --

सुन्दर अभिव्यक्ति

संजय भास्कर ने कहा…

आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....