बुधवार, 10 नवंबर 2010

पर्दा ,बे - पर्दा

         प्यार आया    ,---- हृदय- विहीन ,
        घटा chhayi-------- सावन- हीन
        नेह आया  -------  -नयन  -हीन
         ख़ुशी आई -----  ध्वनि  -विहीन  ,
        विचार आया ------विवेक   -हीन,
        गीत आई ----       स्वर- विहीन
        संस्कार आया -----आदर्श -हीन ,
        कुमुक आई -------सरदार -हीन
        लाज आई ---    आँचल- विहीन  ,
        सूर्य आया   -------बादल- विहीन ,
       चाँद आया ,----      छटा  -  हीन  ,  
                     हाय !  ये व्यतिक्रम क्यों  हो गया  ?
                     संयमित ,असंयमित क्यों  हो गया  ?
        किसी ने   आ बताया   कान  में  ,
        किसी गोरी का  घूँघट खो गया   /------

                                                                          उदय वीर सिंह
                                                                          ९/११/२०१०

2 टिप्‍पणियां:

ana ने कहा…

bahut sundar prastuti.......padhkar ekdam alag taraha kaa rasaswadan hua

vibha rani Shrivastava ने कहा…

मंगलवार 11/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
आप भी एक नज़र देखें
धन्यवाद .... आभार ....