शनिवार, 11 दिसंबर 2010

प्रवाह

पथ गमन कर चले ,तज सजे दो फलक ;
स्मृतियों में बसे वेदना बन  चले  -----------

बादलों   के  नगर , दामिनी   से   जले   ,
खंडित   हुए  ,   यातना    बन   चले  -------

दंश हर -पल हृदय ,  बेधते    ही     रहे  ,
गुल ,गुलाबों के घर , वासना बन चले    -------- 

आगमन में खनक है ,गमन में तड़फ   ,
स्वप्न ,संचित  रहे   चेतना  बन  चले  ----------

पथ निहारें  पलक , आगमन  हो  ना हो ,
 वो प्रतिक्षा ही क्या   कामना  बन चले  -------

प्रेम की राग निकलेगी , हर साज से  ?
ये जरुरी नहीं  ,  वो गज़ल बन  चले -----

जो झुका   ही  नहीं   पा  के   उंचाईयां ,
उदय   तज  धरा ,  आसमां   बन  चले  -----------

                               उदय वीर सिंह 
                                ११/ १२ /२०१० 

6 टिप्‍पणियां:

ana ने कहा…

bahut sundar .........likhte rahiye

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर ....


धारा को धरा कर लें

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 14 -12 -2010
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


http://charchamanch.uchcharan.com/

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम की राग निकलेगी , हर साज से ?
ये जरुरी नहीं , वो गज़ल बन चले --

सच है ... प्रेम का साज़ तो चिड़ियों की चहक में ... मजदूर की ठक ठक में भी होता है ... लाजवाब ...