बुधवार, 29 दिसंबर 2010

*** आशा की डोर ****

मत  सोच  अकिंचन   ,चलता  जा   ,
                             सद्ज्ञान   कहीं  पर  मिल   जाता  --------
                  अपमान      कहीं    जो    मिलता   है   ,
                  सम्मान    कहीं   पर  ,  मिल   जाता    /
                  डूबा          सूरज ,          अस्ताचल  ,
                  चाँद     कहीं     पर    मिल     जाता   /-------

                   छूटा     नाविक   ,   पतवार      गयी   ,
                   मझधार    कहीं     पर  मिल   जाता   /
                   चल    लहरोँ       की       नावों     पर   ,
                   किनार    कहीं     पर   ,मिल     जाता    ----------

                   स्थापित        करता       मानदंड ,
                   इन्शान   कहीं   पर  मिल    जाता   /
                   मर्यादा     की     लिखता     गाथा   ,
                   शैतान  ,   कहीं    पर   मिल  जाता   -----------
,
                   मधुबन   से   वैर   पतझड़  मिलते
                   फूलों    को    कांटे    मिल  जाते     ,
                   मरू -भूमि    का     दग्ध  -क्षितिज 
                   नखलिस्तान  कहीं  पर  मिल   जाता    ---------

                  मिले     वेदना , हृदय  अवसादित   ,
                  प्रेम     कहीं     पर   मिल   जाता      /
                  सरल     नहीं    मानव     मिलना   ,
                  भगवान   कहीं  पर  मिल  जाता   ----------------

                                                             उदय  वीर   सिंह .
                                                              29/12/2010

                      

6 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

सरल नहीं मानव मिलना ,
भगवान कहीं पर मिल जाता ----------------

बिल्कुल सच बात कह दी……………बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति।

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (30/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
http://charchamanch.uchcharan.com

Kailash C Sharma ने कहा…

मिले वेदना , हृदय अवसादित ,
प्रेम कहीं पर मिल जाता /
सरल नहीं मानव मिलना ,
भगवान कहीं पर मिल जाता -----

बहुत सही कहा है..इंसान का मिलना वास्तव में बहुत मुश्किल है.सुन्दर प्रस्तुति. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

aasha ki dor.....to honi hi chahiye...bhut hi sundar..

दर्पण से परिचय

Dorothy ने कहा…

खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
सादर,
डोरोथी.

अनुपमा पाठक ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति!