शुक्रवार, 3 दिसंबर 2010

** दक्षिणा **

सुख शांति  के आंगन में , बस प्यार मांगती है ,
मात्री-भूमि अपने आंचल का अधिकार मांगती है /
        प्यार पल्वित हो उपवन में ,
       रस भरे ,मृदुल मकरंदों    का /                      
       सौरभ से  भर जाये   जगत ,
        चिर  मलय बहे आनंदों का /
मानवतावादी मधुपों का गुंजार मांगती है  /-----
      एक बनाया , एक ही समझा  ,
      एक     सूत्र     में     पाला  /
      मातृत्व -निधि ,वैभव को देकर ,
      सबको      गले       लगाया /
 वैभवशाली ,प्रीतमयी ,संसार मांगती है  -------
      ज्योतिर्मय ,जगमग दीप जला  ,
      कण -कण से  नेह  लगायी  /
      मानव - धर्म का स्फुर्लिंग कर  ,
      निः ,सारों   की होली जलाई  /
आदर्शों के मूल्य सलिल ,रस-धार  मांगती है /-------
      अपना और  पराया   कैसा  ?
      एक    जया    के      भ्राता /
      दिग -भ्रमित  क्यों होते बंधू ?
      हो ! देश -प्रेम   से     नाता /
भरा प्रेम हृदय हर्षित,अंकवार  मांगती है  /------

                        उदय वीर सिंह
                        ०३/१२/२०१०

2 टिप्‍पणियां:

ana ने कहा…

ाति सुन्दर्…………………॥बधाई

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर शब्दों में भावों को लिखा है ...अच्छी रचना .