शुक्रवार, 31 दिसंबर 2010

मंगलमय नव-वर्ष

                                 नव - वरस,  मधु- कलश , रस -बहारें  लिए ,
                                 कुछ     तुम्हारे   लिए  , कुछ   हमारे     लिए ------------

              प्रेम   के   बाग    में  फूल  खिलने   लगे  ,
              नेह -आंचल   में  हंस के  छुपा लेंगे  हम //
              पतझड़   ना   आये ,  ना   आये    तपन  ,
              ह्रदय    की   तली   में  बचा लेंगे   हम  //
                                  प्रिय  प्रियतम  के  सपने  सहारे    लिए  -----------

            प्रीत   नैनों   में   बस   के  छलकने   लगी  ,
            पलकों    में    हंस   के  बिठा  लेंगे    हम    //
            प्यार , अर्पित ,   समर्पित   बिखरने   लगे ,
            सिर  झुका  लेंगे हम ,गल  लगा लेंगे हम  //
                                  अपने   दामन   में   चंदा ,सितारें    लिए  --------------

            रूठी    रुत   ना  मिले , न  अँधेरा  रहे ,
            प्रीतम  को  हंस  के   मना    लेंगे   हम   //
            आये मंगल  बरस,  बिन  सुमन ही सही  ,
             काँटों से   उपवन ,  सजा    लेंगे    हम    //
                                 गम    भी    मुबारक ,   प्यार   संचित   रहे ,
                                 सारी  जीवन   की   खुशियाँ   तुम्हारे    लिए --------

                                                                                     उदय वीर सिंह
                                                                                      ३०/१२/2010

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

नव वर्ष में
जागे हर मन में
उल्लास नया ।

संजय भास्कर ने कहा…

नए साल की आपको सपरिवार ढेरो बधाईयाँ !!!!