शुक्रवार, 21 जनवरी 2011

*****अंडमान ****

    आसमान की उंचाईयों  से समुद्र के बीच में दिखता फूलों के गुलदस्ते मानिंद अंडमान , सचमुच प्रकृत की एक  अनुपम  धरोहर  है  / कहते हैं    स्वर्ग    ऊपर     कहीं    है ,परन्तु    मुझे   लगता   है ,वह  निचे    ही अंडमान   में है  /  जालिमों ने जिसे काला- पानी की संज्ञा  देकर  सजा दिया , वह वास्तव  में तीर्थ बन कर   सज     गया ,    हमारे  स्वाभिमान की चादर    में  /-------                              
             मित्रों   ! मैंने  जो  देखा ,  दिल  की गहराईयों से महसूस किया , अपनी समझ के मुताबिक ,कलम- बध्ह किया / वैसे शब्द नहीं हैं ,उस अंतहीन व्यथायों ,यातनाओं, दुखों  को  वर्णित करने को ,जो भारत माँ के  वीर  सपूतों ने सहे  /    वीर -सावरकर, भान सिंह,  गणेश दामोदर, --------------------शेर अली आदि ,  अमर- वलिदानियों के अंतिम जीवन- यात्रा की स्थली, सेलुलर जेल , की कोख ने मरने  नहीं दिया जज्बातों को , बुझने  नहीं  दिया   उस  शमाँ  को , जिसके तले  आज हिंदुस्तान  रोशन है  /   मेरी रचना एक  श्रधान्जली   है    अमर  शहीदों    के  प्रति ,    एक     सम्मान    है   अंडमान  को  /      
                                  *******--------*******---------*******

                                          नमन       करता     हृदय       तुम्हें  ,
                                                   मेरे       स्वाभिमान !
                                                          अंडमान  !
                                        विरासत     के     प्रवक्ता  ,         प्रलेख,
                                        तेरे पन्नों   पर   किये   गये  ,हस्ताक्षर   
                                                         महान   !
                                        पथ       बन    गये  ,    जिधर     गये  ,
                                        शक्ति -पुंज    - मात्रिभूमि       के   लाल ,      
                                        हँसते   -    हँसते           हो          गये
                                                         कुर्बान        !
                                        तेरे       आँगन       में      पाई     छांव
                                        दिया   तुने ,    अमर-प्रेम   ,      सन्देश ---
                                        सहनशक्ति            की                भाषा ,
                                                         अभिलाषा  ,
                                        एक        दिन        होगा          स्वतंत्र
                                                       हिंदुस्तान  !
                                       सेलुलर       तेरी        कोख          में ,
                                       बीते पल  ,      माँ     की   गोंद   जैसा ,
                                       अमरता     पाई       वलिदान      देकर ,
                                       तेरी      गोंद      में       पनाह    लेकर ,
                                        बन्दे   -  मातरम     गाते       हुए  ,
                                                   शहीदों     ने   लिखी
                                                            दास्तान !
                                        अंडमान ,        रहोगे              सदा
                                                     तीर्थ  बनकर  /
                                        तूं  सखा ,    शरण  -स्थली ,  साक्षी
                                       वतन     पर      मिटने   वालों     का ,
                                        उनके       जाग्रत    संदेशों         का   /
                                     *   शिक्षक     आज   मेरे  वर्तमान  का ,
                                         तुझे     नमन  , सत,  सत  , नमन,
                                                  युगों      तक    प्रणाम   ,
                                                          अंडमान !

                                                                             उदय  वीर सिंह
                                                                                १७/०१/२०११
                                                                                         (  पोर्टब्लेयर  से  )  

                                      

    
      
                  

3 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

शहीदों को नमन ...बहुत भावपूर्ण रचना ....

वन्दना ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति……………नमन्।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/