बुधवार, 26 जनवरी 2011

***** स्वतंत्र होने लगे हैं ******

गणतंत्र    ऐसा ,    स्वतंत्र    होने  लगे हैं ,
धरती    में   अब    चाँद    बोने   लगे   हैं -------
सूरज    के    घर   में    बर्फीली     हवाएं ,
सरिता   में     समुन्दर    डुबोने   लगे    हैं ------
                      पसीना    ना   आया  ,वैभव    तो  आया ,
                     पूंजी     बिना    लहलहाई       फसल     है    //
                     अहिंसा    के   घर  में   बारूदों   का गठ्हर ,
                      खादी    के   पीछे     हिंसा   का   बल    है   //
संगीनों    के   साए  में , पूजा  भी     होती ,
डर  से   परछाईयाँ   अपनी    खोने लगे  हैं -------
                        सरस्वती ,   से     नहीं    दूर     का   वास्ता ,
                        शिक्षा   की   विधा   का    नियंता      बने   हैं  //
                        खेल ,  खाने    की   शाला है , जाना है जिसने
                        गूंगे ,  स्वरों     के ,    प्रवक्ता      बने         हैं   //
 हत्यारा  , बलात्कारी ,  अत्याचारी , फरेबी ,
मसीहा ,    मानवता     के   होने    लगे      हैं ----------
                           स्विस-बैंकों     में   खाते   आजादी    में खोले ,
                           नियामक    विधि   के   कोई    क्या     करेगा    //
                           श्रम -  साधक  , है   नंगा ,   निवाला       नहीं   ,
                          सिर   पर  छाया   नहीं  ,पीर   ,प्यासा ,  मरेगा  //
आजाद     भारत   की   आज़ाद   जनता ,
अपनों   में   पराये    क्यों   होने   लगे हैं --------
                             पशु    तो   सुरक्षित    है   विकसित   सहर में  ,
                             क़त्ल    पशुओं   सा    इन्सान   होने   लगे हैं  //
                             गद्दारों   के   महलों    में    सूरज     सुसोभित  ,
                             दीपक   ,  शहीदों   के    बुझने    लगे        हैं   //
कैसे    हम    बताएं   , अपनी    व्यथा    को  ,
अब   तो   इन्सान ,  बनने   से  डरने   लगे हैं ------

                                                                उदय वीर सिंह
                                                                २५/ ०१ /२०११ 

3 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (27/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
http://charchamanch.uchcharan.com

गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

पशु तो सुरक्षित है विकसित सहर
क़त्ल पशुओं सा इन्सान होने लगे हैं

मार्मिक प्रस्तुति .


गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

Kailash C Sharma ने कहा…

पशु तो सुरक्षित है विकसित सहर में ,
क़त्ल पशुओं सा इन्सान होने लगे हैं //
गद्दारों के महलों में सूरज सुसोभित ,
दीपक , शहीदों के बुझने लगे हैं //

बहुत सार्थक और सटीक प्रस्तुति..बहुत सुन्दर. गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई !