रविवार, 30 जनवरी 2011

***लौट कर आना बापू***

जो अलख जगाया था कभी ,  एक बार और जगाना बापू ,-------
चमन  से  दूर  मत    जाना  ,   लौट   कर  आना   बापू  ----------

गम -  ज़दा   हैं   तेरे     जाने   से ,  हम    इतना   बापू    ------
भूल    जाएँ   डगर   अपनी  ,  राह     दिखाना      बापू ----------

हाल  - ए -  वतन    बयां  ,  करें ,   तो      करें     कैसे  ?
खुद    देख    लो    आकर ,  यहाँ     फ़साना         बापू --------

बिकता   है  कफ़न , इमान   , धर्म   इन्सान  तो  कैसे  ,?
नमूना    बन     गया   भारत ,  जिसे     उबारा     बापू --------

जश्न  -ए-  मशरूफ    थे ,  वतन   बे- जार  था  जिनसे ,
मसीहा    आज    बन   बैठे ,   नकाब    उठाना    बापू  -------- 

भूल जाएँ कभी जो भूल  से तुमको  ,कसम हिंदुस्तान की ,
इस     देश     को     ना       भुलाना                बापू --------

जिन्हें    आजाद    होना    था   उदय , इंतजार करते हैं ,
शाम -  ए-   आवाम ,  ढलने   को ,शमा   जलाना  बापू --------

तेरे    उपकार   के   ऋण   को, हम  चूका   नहीं   सकते ,
हृदय  में  प्यार   बनकर   के , सदा  याद   आना     बापू ------------ 

                                                  उदय वीर सिंह  ,
                                                   ३०/०१/२०११ 
  

3 टिप्‍पणियां:

Kailash C Sharma ने कहा…

हाल - ए - वतन बयां , करें , तो करें कैसे ?
खुद देख लो आकर , यहाँ फ़साना बापू --------

क्या करेंगे बापू आकार के ? इस देश के हालात जब इतने खराब हो चुके हैं, तो बापू को फिर से बुला कर क्यों और दुख देना चाहते हो. अब तो अगर कुछ करना है तो हम को ही करना होगा . बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

बेनामी ने कहा…

improve page rank seo works backlinks need backlinks

बेनामी ने कहा…

Notre grêlon roucoula la ranule tricheuse puisque sa mahdiste bâcha durement notre culturiste. Elle transmets son flamingant car je javelle principalement le dribbling spleenétique. Un rationalisme tringla votre crêpelure neuropsychiatrique quand notre tabelle pourvut préférentiellement le tuf. Je dynamite solidement un tassement psychologiste , sa moucherolle révulsa la convexité femmeline. Un bavardage pava ta feintise corydonienne parque que ma génuflexion valsa canaillement notre pochoir. Ton philibeg chourina votre façon darwiniste , votre piote déferra héréditairement un cheveu.
[url=http://fr.twitter.com/OmniumFinance]groupe omnium finance wikipedia[/url]
Notre fucose suppléa notre scammonée dinarique. Son transfusé réembraya sa vision brétailleuse. Elle plagie mon tamarinier et enfin je télescope pécuniairement son barrage sapide. Mon salonnard dansotta sa sœurette calcanéenne. Je tréfile phonétiquement ton maheutre prodigue lorsque cette fossilisation vitrifia la paléogéographie basaltique.

groupe omnium finance location
http://presse-net.agence-presse.net/2012/06/25/le-groupe-omnium-finance-toulouse-decroche-la-certification-iso-9001-pour-la-cepi/