शुक्रवार, 7 जनवरी 2011

***अतीत के गीत ***

हवावों  के  आँचल ,    मधुर   गीत   कितने  ,
सजाये   किसी   ने ,   तो    गाए   किसी  ने  -----------
                    स्वर   गूंजते     हैं ,  मधुर    रागिनी      में ,
                    मरू-भूमि   से  मीरा  के प्रियतम  की  भाषा  /
                    बावरी   की  वीणा में  कान्हा   के      दर्शन  ,
                    विष-प्याला    भी  गाता  अमरता  की गाथा   / 
साज  बनकर  विरह  गीत  गाए  किसी    ने  ,
प्यार  बन  करके  पाहुल ,  पिलाये  किसी ने ----------
                    शंकर की   वाणी से  निकला    सुधा -मय ,
                    भज गोविन्दम,  भज गोविन्दम   मूढ़ मते  / 
                    निशिवासर   रगों   में  खनकता  ही रहता  
                    व्शुधैव    कुतुम्कम  के  बोलों  पर   चिमटे   /
मूल्यों  के  मोती  तो बिखरे थे कितने   
भावों   की  माला  बनाये  किसी    ने   --------------
                     कविरा   की  गीतों  में , गंगा   का  पानी  , 
                     मुल्ला  व्  पंडित    जी   दोनों   ही   पीते  /
                     समय  ने  दिए  जब  आघातों   के   खंजर  ,
                     राम  के  नाम  से  जख्म  दोनों  ही  सीते  /
ऋषियों  की वाणी   में एका का पंचम ,  
गाए   किसी   ने ,   भुलाये   किसी  ने --------------
                     बंसरी   के   सुरों  में ,  सुर   बहते    रहे  
                    अमर  - प्रेम      राधा  के ,  गाते      रहे    /
                     रामायण  में  तुलसी   ने  जीवन  बसाये 
                    ,आदर्श       जीवन       सजाते        रहे  /
नान्हू    ने  गीतों    में  रब  को   समाया  ,
कठौती   में   गंगा   को   लाये  किसी  ने  ----------
                     जलती    रहे  लौ  अमन  की  चमन   में  ,
                     बुझाये  किसी   ने ,  जलाये   किसी    ने   ----------
देखो    शिला   पर  उदय   चित्र  कितने ,
बनाये    किसी  ने ,  मिटाए    किसी  ने  ----------------
     
                                                            उदय वीर सिंह 
                                                           ०७/०१/२०११     


            

1 टिप्पणी:

वन्दना ने कहा…

अतीत के गीत भी वर्तमान मे भी अपनी पहचान बनाये हुये हैं और यही इनकी सार्थकता का प्रमाण है।