शुक्रवार, 28 जनवरी 2011

**** गुनाह मेरे , किये तेरे ****

तेरी   शान  में ,                    
पढ़ते  रहे  कसीदे , 
 करते     रहे   फरियाद , 
निगाहें  होंगी  मेरी  तरफ , कभी  तेरी  ,
देगा  समय ,
कुछ  पल  ठहरने  का , चैन  से    /
करेगा  रहमतों  की  बरसात ,
धूल  जायेगे  गर्द   दुखों  के  ,
जिसे  ढ़ोता   रहा  अकेले   निरंतर  /
प्यासा  मन ,
अघा  जायेगा  पीकर ---
तेरी  दया  का  , प्यार  का   नीर   /
अब  तक  पाई  उपेक्षा , परायापन   ,दुश्वारियां     /
देख    !
           दामन    तार    - तार   है    ,
           फिर   भी   ना   छोड़ते   साथ   ,
           परजीवी    की  तरह    /
    * तुने    क्यों    छोड़ा    हाँथ    ?
तूं    तो    परमेश्वर    है  ?   
सागर     है   दया  का  ,
एक    बूंद    भी    मयस्सर    नहीं    मुझे    ?
बांटने   को   करता   है   मन ,
बाटूँ    क्या    लोड़ - बन्दों   को    ?
जो   है   मेरे   पास     ? 
गवारा   नहीं    मुझे   देना   ,
जो   दिया   तुने    मुझे   ,
अहसास   है   मुझे    दर्द   का  -------
  --------- ओ   लिखने   वाले   मुकद्दर   इन्सान   का   !
                       कभी   इन्सान   बनकर ,   
                                   देख      / 

                                    उदय  वीर   सिंह  
                                     28/01/2011 






3 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

आज तो आपने विधाता को भी घसीट लिया …………सुन्दर भाव्।

Kailash C Sharma ने कहा…

- ओ लिखने वाले मुकद्दर इन्सान का !
कभी इन्सान बनकर ,
देख ...

बहुत भावपूर्ण..मन को झकझोर देने वाली बहुत सुन्दर रचना..

: केवल राम : ने कहा…

मन में आये ख्यालात बखूबी अभिव्यक्त किये हैं आपने .....परमेश्वर को भी .......कैसे कहूँ ...पर भाव पूर्ण है रचना .....शुक्रिया आपका