गुरुवार, 10 मार्च 2011

**आभार - जिंदगी**

           साजिशों      के     दौर    में      नाकाम      है     जिंदगी ,
           मिलती   तो  है    हर   मोड़,  पर   गुमनाम   है  जिंदगी  -----

           वहशियों   के    शहर   में     मुहल्लत    नहीं    मिलती  ,
           चलकर प्यार  की गलियां  कितनी परेशान है   जिंदगी   ------

           सबे महफ़िल शराफत  डूब जाती है,रहबर उठाये जाम जब     ,
           पिलाकर   जब्त   होठों  को,  खुद   बदनाम   है    जिंदगी -----

           आसमान   बन   गया  किराये   का ,धरती   बिकाऊं  है ,
           आदमी   का  मोल    ही     कितना , हैरान  है    जिंदगी  -----

           हमने  मांगी थी दुआ बेजार- ऐ- गम   मंसूख   न   होना ,
           ख़ुशी का  एक पल न दे पाई ,कितनी लाचार है जिंदगी  ----

           पकडे   हाँथ    थे  जैसे   , छोड़ने    की    हसरत   लेकर ,
           डूब    जाती  है  अक्सर  ऐतबार में  ,नादान है   जिंदगी  ------

           रोई थी ,जब   चले    थे ,  लौटने   की    आश   देकर  के    ,
           अब तो  लगता है , इंतजार  की   मुकाम   है     जिंदगी  ------

           गुजरे       तूफान   से ,    जज्जबात   जीने    का      रहा ,
           मंजिल   मिल     गयी   मांगी ,  तो   इनाम   है  जिंदगी ------

           अपना   अक्स   ढूढ़ते  हैं ,  कहीं   मिल   ही   जाये    जब ,
           कहूँगा ,यार हंस  के हाँथ दे ,कितनी  आसान   है  जिंदगी  -----

           हर   जुल्म   की   इन्तहां  है , प्यार  बे -   इन्तहां     होता,  
           उदय  मांग   ले  हंसकर , दो पल  की  मेहमान  है  जिंदगी ----

                                                                         उदय वीर सिंह .
                                                                          ०९/०३/२०११    






    

3 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

वाह्…………पूरी ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा गढ दिया।

सतीश सक्सेना ने कहा…

बढ़िया है आपका अंदाज़ ....शुभकामनायें भाई जी !!

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

वाह..क्या खूब लिखा है आपने।