रविवार, 20 मार्च 2011

***जख्म -ए- इमदाद ***

                                                    [ मूल्यों     के   गिरते    हुए    इस      दौर     में   ,  लिखी     गयी        इस  
                                                                        नज़्म   से  यदि   किसी को  ठेस   पहुंचती   हो    ,तो   हम   क्षमा   प्रार्थी 
                                                                         हैं    / मेरा   आशय    यह   नहीं   है    / मेरे  द्वारा  महसूस   ,देखी , सांझी 
                                                                        संवेदना   किसी     यथार्थ    का प्रतिनिधित्व    नहीं   करती  / जीवन  के  
                                                                        अवशान   में   मनुष्य    उतना   ही     लाचार & तनहा  होता  है , जितना  
                                                                        शैशव - काल   में  /  आवश्यकता    है , संबल  की  प्यार की संवेदना  की --- -]

            क्या   लिख  दिया रब  ने,  मेरी  मुकद्दर ,
            ढलने  लगी   शाम   उजारा    नहीं     है ---

                       पतवार   बन     हमने    कश्ती    उबारी,
                      आज  भंवर  में  पड़ा   हूँ किनारा  नहीं  है --

           खोयी  ख़ुशी जिनकी खुशियों  के खातिर ,
           आज    तनहा   खड़े    हैं  सहारा  नहीं है   --

                       गमे  - जिंदगी  तेरा अहसान मुझ  पर , 
                       गले मिल रही  है , सकूँ  मिल  रहा  है  /

          चले   छोड़   दामन  ,अपना  कहने वाले ,
          अब  फरेबों  में   जीना  गवारा   नहीं   है --

                         वे   समझने   लगे  मेरी  गैरत  मरी  है ,
                         समय के मुताबिक , मुकम्मल नहीं हूँ  /  

          सफ़र   आखिरी    है , है  बस  दुआएं  ,
          दामन   में  कोई   सितारा    नहीं   है  --- 

                          दे  न  सके  जो  दो  बोल  उल्फतों  के ,
                          क्या  बन  सकेंगे  कदम  रहबरी    के   ? 

           फिर   भी सलामत  खुदा उनको  रखना ,
           संस्कारों   ने   हमको   बिसारा   नहीं है     ---- 


**
          आवाज  देना , फिर   भी    गर्दिशी    में  ,
          उदय    दिल  हमारा , तुम्हारा  नही   है --

                                                                           उदय वीर सिंह .
                                                                            २०/०३/२०११ 






2 टिप्‍पणियां:

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

नज़्म कहां है?

हरीश सिंह ने कहा…

भारतीय ब्लॉग लेखक मंच शहीद दिवस पर आज़ादी के दीवाने शहीद-ए-आज़म भारत माता के वीर सपूत भगत सिंह सहित उन सभी वीर सपूतो को नमन करता है जिन्होंने भारत माता को आजाद करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी.
आईये हम सब मिलकर यह संकल्प ले की भारत की आन-बान और शान के लिए हम सदैव तत्पर रहेंगे. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच