शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011

***विमर्श ***

तपिश       है         फिजां        में     इतनी ,
        फिर      आँखों          में     नमीं    क्यों    है ---
           तलाशते    पथ ,   कोई    रहबर        मिले ,
            मायूस    हैं   अब    तक   , इतनी    कमी   क्यों   है ----

  सवाली       से      ही       सवाल      क्यों ?
         क्या इंतजार-ए-क़यामत मुक़र्रर  होगा ?
             आखिर          इंसाफ        की      गली      में 
                 ऐसी           बेवक्तगी              क्यों             है -----

जीवन    का      फलसफा       मुक़द्दस  ,
       ईमान        हो          इन्सान         में  ,
              इंसानियत           की       राह      में ,
                 फिर         ठगी             क्यों              है ----

आँखों          में            खौफ           है ,
      बे     -    खौफ      हैं        देने     वाले 
         जीते         मर   -   मर       के      रोज ,
                ऐसी          बुजदिली          क्यों          है  -------

    न   देखता    है   इन्सान   ,इन्सान  को
         प्यार        की         नजर         लेकर   ,
               दिल     तो       हमराह       है    उनका
                  फिर   इतनी    तंगदिली    क्यों      है   ------

तारुफ़      देते      हैं     आवाम      को   ,
       अपने     रहनुमा       होने         का
           रूबरू         होने      में     मजलूम    से
              शर्मिंदगी            क्यों                  है   -------

देना    था   खैरात    खजाने   को
      लोड्बंद           के             हांथों  ,
            हैरानगी  !    खैरात   में     भी ,
                आमदनी          क्यों            है   ------

उदय    मौत    से   क्या   मोल ,
      आनी         तो      आनी      है ,
           जिंदगी     आमानत     है     उसकी ,
                बेचारगी           क्यों              है --------

                                            उदय वीर सिंह .
                                          

     

3 टिप्‍पणियां:

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

उदय मौत से क्या मोल ,
आनी तो आनी है ,
जिंदगी आमानत है उसकी ,
बेचारगी क्यों है ---


बहुत सार्थक सन्देशयुक्त यथार्थपरक रचना.... हार्दिक बधाई।

वन्दना ने कहा…

बेहद सुन्दर रचना।

बेनामी ने कहा…

[url=http://buylasix.racing/]lasix[/url] [url=http://buycolchicine.trade/]buy colchicine[/url] [url=http://albuterolwithoutprescription.ru/]albuterol without prescription[/url] [url=http://cheapdoxycycline.top/]doxyhexal[/url]