गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

**बैसाखी **

{ * मेरे प्रिय  देशवासियों  बैसाखी   की  हार्दिक  शुभ  -कामनाएं   / यह ख़ुशी   का पर्व , धार्मिक  ही नहींअपितु  इतिहास  का  अमिट  हस्ताक्षर भी  है  / जिसने  प्यारे  वतन   को  उर्जावान रखा है . /  हम उसके  वारिस , बैसाखी   को  तन  -  मन  व  आत्मा  में  समाहित   कर  फुले , नहीं    समाते   हैं / बढ़ते   जाते  हैं  और  एक   कदम   आगे  ----} 

****
पग  सजी  है   रंगीली   ,थिरकते  कदम
आ  मिलो  जैसे  सागर   से  धरा   मिले - --

ऐ  बैसाखी   सलामत   अमर   तू  रहो ,  
गमजदों     को   सहारा तुम्हारा  मिले --

तेरे दामन में कम हों न  खुशियाँ कभी ,
मेरे    दामन     को ,   तेरा सहारा मिले -----

                    खेत  मेरे सजे  आगमन  में तेरे ,
                         हवाओं ने खुशबू नजर कर दिया --
                           बेबे कहती बिठाने को अपनी पलक ,
                              बापू गीतों से गलियों में  रस भर दिया --

सोंड़ी  मुडीयार  आँचल   सजाये     हुए , 
भर के छलके ख़ुशी इतनी ज्यादा मिले ----

                      तेरे    आँचल   में     केवल   सितारे    नहीं  ,
                          इतिहास   -ए- वतन   का  नजारा  भी  है   --
                             खालसा  का  जनम  ,राहे  -कुदरत  मिली   ,
                                  जलियांवाला    ,दा     घल्लुघारा      भी  है  -----

तेरी  चाहत बैसाखी  इस  कदर  दिल   में  है   ,
तेरे  संग   खातिर   जीवन   दुबारा     मिले  ------

                        गीत  है  ,प्रीत  है  ,  मीत    है   हमकदम ,
                             तुमको  चाहा  है  दिल से  हर शख्श -ए-वतन  --
                              त्याग   ,खुशियों    से     तेरी   तो    पहचान  है   ,
                                  शाहे -  किस्मत , मिशाल-ए -तारीख -ए -चमन   -----

मिट   सकें  शान  से  ,देके   खुशहालियां  ,
राहे-   रहबर   ,गुरु ,  पंज-प्यारा    मिले  -------


                                                                 उदय   वीर   सिंह
                                                                 13/04/2011 



6 टिप्‍पणियां:

ZEAL ने कहा…

खेत मेरे सजे आगमन में तेरे ,
हवाओं ने खुशबू नजर कर दिया --
बेबे कहती बिठाने को अपनी पलक ,
बापू गीतों से गलियों में रस भर दिया --

बैसाखी आगमन की उम्दा अंदाज़ में स्वागत । आपको बैसाखी की शुभकामनाएं ।

.

Sunil Kumar ने कहा…

खुबसूरत रचना, बैसाखी की हार्दिक बधाई

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

तेरे आँचल में केवल सितारे नहीं ,
इतिहास -ए- वतन का नजारा भी है --
खालसा का जनम ,रहे -कुदरत मिली ,
जलियांवाला ,दा घलुघरा भी है -----

बहुत सुंदर..वैशाखी की शुभकामनाएं।

सतीश सक्सेना ने कहा…

हार्दिक बधाई और शुभकामनायें आपको भाई जी !

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

आदरणीय उदय वीर सिंह जी
सादर सस्नेहाभिवादन !

आपको सपरिवार
* वैशाखी पर्व की *
* हार्दिक बधाई !*
* शुभकामनाएं ! *
* मंगलकामनाएं ! *


आपकी रचना काबिले-तारीफ़ है …
खेत मेरे सजे आगमन में तेरे ,
हवाओं ने खुशबू नजर कर दिया --
बेबे कहती बिठाने को अपनी पलक ,
बापू गीतों से गलियों में रस भर दिया --

सोंड़ी मुडीयार आँचल सजाये हुए ,
भर के छलके ख़ुशी इतनी ज्यादा मिले


बहुत ख़ूब ! प्रशंसनीय !!

सचमुच , बहुत बहुत प्यारा गीत है , जितनी तारीफ़ करूं … कम है !!

* श्रीरामनवमी की भी शुभकामनाएं ! *
वैशाखी पर्व की भी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

- राजेन्द्र स्वर्णकार

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

तेरी चाहत बैसाखी इस कदर दिल में है ,
तेरे संग खातिर जीवन दुबारा मिले ------

बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।