मंगलवार, 24 मई 2011

**शहजादा **

एक      शहजादा     सपनों    का 
   सपनों    में    तिरोहित   हो  गया  ,
     प्राण     प्रतिष्ठा     दिल    में   पाई
       महलों    में   नियोजित    हो   गया    ....

मकरंदों  का   मधुर  नियोजन
   स्नेह   - सिक्त  व्यंजन   रच   के
     प्रेम   सरस   रस  अमिया  समर्पण
       निष्ठा   कलश   में    संचय     करके  /

तज   प्रतीक्षित  मान  - सलिल  ,
    मधुशाला  से  मोहित   हो  गया  ...

खाए    संग    काँटों    की  झाड़ें
   द्रवित    हुए    न    विचलित   हो
     फटे    वसन  ,   बहता       शोणित,
         पग    रुके    नहीं    अतिरंजित  हो ,

बनने   को   मुंदरी  का  नगीना
    सीपी   से     वियोजित   हो    गया ....

नयनों  में  बनाया   घर  अपना ,
   अश्कों   को   बनाया   हम   सफ़र
     पलकों   की   सलाखों    का    वादा ,
        महफूज़       रखेंगे      उम्र  -   भर  ...

मदमाती  सरिता  मतवारी
    हथ   छोड़   प्रवाहित   हो   गया  ...


सांसों   ने   माँगा  कब , कहाँ ?
    खुशबुओं       की      आंधियां ,
      दिल    ने    माँगा    कब  ,  कहाँ ?
         प्रेम  -  ग्रन्थ     की        साखियाँ ,

तोड़   गया  अनुबंध   उदय ,
    गैरों    से    प्रायोजित   हो   गया   ...
 
                                 उदय वीर सिंह
 
                                 २२/०५/011








4 टिप्‍पणियां:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

क्या से क्या हो गया ... सुन्दर रचना!

Kailash C Sharma ने कहा…

सांसों ने माँगा कब , कहाँ ?
खुशबुओं की आंधियां ,
दिल ने माँगा कब , कहाँ ?
प्रेम - ग्रन्थ की साखियाँ ,

...बहुत भावपूर्ण और सटीक प्रस्तुति...आभार

ZEAL ने कहा…

मकरंदों का मधुर नियोजन
स्नेह - सिक्त व्यंजन रच के
प्रेम सरस रस अमिया समर्पण
निष्ठा कलश में संचय करके ....

Awesome !

Very impressive creation !

.

कुश्वंश ने कहा…

खाए संग काँटों की झाड़ें द्रवित हुए न विचलित हो फटे वसन , बहता शोणित,पग रुके नहीं अतिरंजित हो ,


बहुत भावपूर्ण और सटीक प्रस्तुति.आभार,