शनिवार, 19 नवंबर 2011

प्रयत्न

खोलो     होंठ   , शब्द   उच्चरित  हों  ,
अभिव्यक्तियों     को     स्वर     मिले ,
अंतहीन    न  हों  बेदना  की  करवटें ,
आये नींद इतनी,स्वप्नों को घर मिले -
              स्वांसों   में   वेग  हो   फूंक  सकें   विगुल ,
              शंखनाद    की      शक्तियां     आकर    ले ,
              मिटाने    को  अस्तित्व     विषमता   का ,
               परायी   हो    दुश्चिंता , सृजन  साकार  ले -
कर सकें स्पर्स ,भर अंक आराध्य का
तपस्या   हो   सार्थक  , शु-फल  मिले -  
               गीत में मालिन्य क्यों शुभ-माधुरी प्रसंग वर
               पुरुषार्थ  का  निहितार्थ ,लक्ष्य  तेरी   अर्चना ,
                का-पुरुष की पद्मिनी कब ,छल की न अप्सरा ,
               कर्मवीर ही विजय वरे,उपकार की हो कामना-
आगमन  तिमिर  का तिरोहित हो ,
प्रभात    का , निशा   को  वर मिले-
                खंडित  हों   लौह   बंध  ,कुप्रथा  कुरीत  ढंग   ,
                त्रासदी   तजे  की,  वैधव्य  का   न  अर्थ  हो  ,
                नेत्र  में   प्रकाश  हो  ,अश्कों  की   धार क्यों  ?
                 विकलता  विलीन  हो   कुशलता  समर्थ  हो
अन्शुमान की प्रभा  लिए ,जल उठे दीप  ,
तेज  देदीप्यमान हो मौन भी मुखर उठे -
                 विभीषिका प्रमाद की ,सर्जना  प्रलम्भ  की ,
                  है भारती की कोख में वेदनाअसीम  क्यों ?
                 हो व्याधिमुक्त भारती हर अंग शक्तिमान हो ,
                 आहुति के   हाथ  में  याचना आसीन  क्यों ?
जल उठे प्रचंड अग्नि,भाष्मित हो होलिका ,
देवों    के    देश    को   निष्ठा   प्रखर   मिले -


                                                             उदय वीर सिंह
                                                              १९/११/२०११ 


                
      

5 टिप्‍पणियां:

Deepak Saini ने कहा…

आगमन तिमिर का तिरोहित हो ,
प्रभात का , निशा को वर मिले-

बेहतरीन अभिव्यक्ति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आगमन तिमिर का तिरोहित हो ,
प्रभात का , निशा को वर मिले...

बहुत खूब उदय जी ... भोर तो प्रभू का वरदान है निशा के लिए ... सुन्दर पंक्तियाँ ....

S.N SHUKLA ने कहा…

सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.
.

अनुपमा पाठक ने कहा…

आये नींद इतनी,स्वप्नों को घर मिले -
वाह!
सुंदर रचना!

Kailash C Sharma ने कहा…

विभीषिका प्रमाद की ,सर्जना प्रलम्भ की ,
है भारती की कोख में वेदनाअसीम क्यों ?
हो व्याधिमुक्त भारती हर अंग शक्तिमान हो ,
आहुति के हाथ में याचना आसीन क्यों ?

....बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति...