सोमवार, 19 दिसंबर 2011

अभिसार

संवारी      राह      आँचल   से ,
प्रतीक्षा     भी     करो      वैसे -
तिमिर    विलीन     हो   जाये ,
चन्द्रिका  बन    के   उगो जैसे  


           शीतल छाँव  समीर  बन  जाये ,
            मरू -    भूमि     की     गलियां ,
            हर पात रसीला हो मकरंद लिए
            प्रसून        सजी         डालियाँ -


जब  निभाई  शूलों से  हंसके ,  
समीक्षा     भी     करो    वैसे-   


         मखमली अनुभूतियों की जब ,   
         डगर       निर्मित           हुयी -    
         खिल उठे सत -कोष भावों के ,     
         वेदना      विस्मृत          हुयी-     


मिले   पानी   से   जब  पानी  ,
प्रतिष्ठा     भी     करो     वैसे-  


             श्रृंगार   सूना  है ,नैन  सुने  से, 
             प्रीतम     की     उदासी      में -
             प्रतिध्वनित होती ध्वनि मेरी  
             निरुत्तर    है  ,    आभासी    है- 


क्षितिज आँचल में समाये तो,  
प्रशंसा      भी     करो      वैसे- 


                  ---------    उदय वीर सिंह  

9 टिप्‍पणियां:

ZEAL ने कहा…

श्रृंगार सूना है ,नैन सुने से,
प्रीतम की उदासी में -
प्रतिध्वनित होती ध्वनि मेरी
निरुत्तर है , आभासी है-

lovely lines ...

.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हर भाव निराला हो,
शब्दों में उजाला हो।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज दिनांक 19-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

vandana ने कहा…

जब निभाई शूलों से हंसके ,
समीक्षा भी करो वैसे-

बहुत सुन्दर भाव

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत उम्दा!

Kunwar Kusumesh ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा.

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

नाजुक भावों व मखमली शब्दों ने काव्य-सौंदर्य करा दिया.

सतीश सक्सेना ने कहा…

कमाल की रचना ...बधाई स्वीकार करें भाई जी !

amrendra "amar" ने कहा…

BAHUT SUNDER RACHNA
AABHAR