शुक्रवार, 27 जुलाई 2012

प्रीत के पांव में ...

हृदय      में  ,   वेदनाओं    का  ,
काफ़िला         न            मिले- 
प्रीत   के पांव  में,   काँटों   का 
सिलसिला        न          मिले-
                  ***
विरह  हो , प्रेम   की  मंजिल ,
तो      रास्ता       न       मिले 
राम, सीता को, लक्षमण  को
उर्मिला         न              मिले-
                   ***
दर्द  ,जब   त्याग,  बन  जाये ,
इंसाफ        की          गलियां
हीर, को     राँझा       ,  मजनू
को        लैला        न      मिले -
                  ***
अभिमान की  ताजपोशी   में ,
इन्सान           क़त्ल         हो ,
वो    शिक्षालय   बंद   कर  दो ,
दाखिला           न          मिले-
                  ***
शर्त  ,     सीमा      में  ,    प्रीत   ,
बाँधी             जो            गयी ,
कृष्ण,सुदामा  को, कान्हा को   
राधिका              न        मिले-
                 ***
रुनझुन  पायल   के  खनकने
 का             मौसम         आये -
आग जो  धुप   से  बरसे , मेघ 
का         आँचल                पाए -
                 ***
महफूज      हैं     हम     तन्हा 
इबादत      की     राह        में,
आगाज         रोशनी          है ,
अंधेरों  को , आसरा   न मिले-  
                 ***
देखता      है      संस्कारों   को 
एक     विकार    की       तरह 
मदहोश   को  मधुशाला ,लबों
को        हाला        न      मिले 
                ***
आँखों    में   देख ,  दिल     की ,
गहराईयाँ      कह     रही    हैं-
जोड़    लेना,   इनको  प्रीत से 
फासला         न            मिले-
                ***




                                    उदय वीर सिंह 
                                      27-07-2012















11 टिप्‍पणियां:

अरुन शर्मा ने कहा…

वाह अति सुन्दर , क्या उम्दा लिखा है आपने, बधाई

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

खूबसूरत कविता...बहुत सुन्दर..

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

अभिमान की ताजपोशी में ,
इन्सान क़त्ल हो ,
वो शिक्षालय बंद कर दो ,
दाखिला न मिले-

बेहतरीन रचना....

dheerendra ने कहा…

आँखों में देख, दिल की ,
गहराईयाँ कह रही हैं-
जोड़ लेना इनको प्रीत से
कहीं फासला न मिले-,,,,,,,,,,,,,

वाह,,,, बहुत बढ़िया रचना,,,बधाई उदय वीर जी,,,,

RECENT POST,,,इन्तजार,,,

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

behatatrin kavita... sunder prastuti.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अत्यन्त सुन्दर रचना..

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

वाह ...बेहद खूबसूरत एहसास ...बहुत खूब

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत ही अच्छी कविता । मेरे पोस्ट "अतीत से वर्तमान तक का सफर" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।

रचना दीक्षित ने कहा…

प्रीत के पांव में काँटों का
सिलसिला न मिले-
प्रेम दूरी है ,तो राम, सीता को
लक्षमण को उर्मिला न मिले-

बहुत ही उम्दा लेखन सुंदर कविता के रूप में. शुभकामनाएँ.

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही अच्छे मुक्तक भाई उदय जी सत् श्री अकाल

रचना दीक्षित ने कहा…

आँखों में देख,दिल की, गहराईयाँ कह रही हैं-
जोड़ लेना इनको प्रीत से कहीं फासला न मिले-

उम्दा शेर. सुंदर रचना. बधाई.