शुक्रवार, 31 अगस्त 2012

शिकारहो गया -


                   

                     मेरा देश,साज़िशों   का, शिकारहो गया -
                     स्वस्थ था ,संपन्न था,  बीमार हो  गया -

                     फासले    दिलों   में, बेसुमार   हो    गए  
                     मंजिले   - मुसाफिर    की  राह  न  रही ,
                     इनसानियत का घर,कत्लगाह हो गया -

                     घूरती    हैं  आँखें,  अजनवी   हो  गए हैं ,
                    आँगन,    एक   थाली  विद्वेष  हो  गए हैं ,
                     प्रसाद भी   प्रभु   का,  व्यापार  हो गया  -


                     इनसानियत की  कोई जगह  नहीं  रही ,
                     दौरे   सितम  में,  हमसे  दूर  चली गयी -
                     लुटा रहबरों  ने ,जिनसे  प्यार हो  गया -

                    चलते हैं  एक  कदम, कीमत वसूलते हैं ,
                    बेचते   थे   फूल , अब   मुल्क   बेचते  हैं-
                    जोर  और  जुल्म   का   बाजार हो  गया -


                    मनीषियों   का देश ,तार- तार हो  गया-



                                                                   उदय वीर सिंह



           
           

               
               

8 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मनीषियों का देश बेमन चलने लगा है..

dheerendra ने कहा…

चलते हैं एक कदम, कीमत वसूलते हैं ,
बेचते थे फूल , अब मुल्क बेचते हैं-
जोर और जुल्म का बाजार हो गया -

उदय वीर जी, आपने एक दम सच कहा,,,
लाजबाब अभिव्यक्ति के लिए बधाई,,,,,,

dheerendra ने कहा…

चलते हैं एक कदम, कीमत वसूलते हैं ,
बेचते थे फूल ,अब मुल्क बेचते हैं-
जोर और जुल्म का बाजार हो गया -

आज की सच्चाई बताती लाजबाब अभिव्यक्ति,,
उदयवीर जी, बधाई,,,,,
RECENT POST,परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (01-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Rajesh Kumari ने कहा…

घूरती हैं आँखें, अजनवी हो गए हैं ,
आँगन, एक थाली विद्वेष हो गए हैं ,
प्रसाद भी प्रभु का, व्यापार हो गया -
क्या बात है ---बहुत सार्थक पंक्तियाँ बहुत बधाई

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

बहुत ख़ूब!

एक लम्बे अंतराल के बाद कृपया इसे भी देखें-

जमाने के नख़रे उठाया करो

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही उम्दा अभिव्यक्ति और देश के प्रति चिंता |

सतीश सक्सेना ने कहा…

मनीषियों का देश तार तार हो गया ....

बड़ी प्यारी रचना भाई जी ...आभार आपको !