शुक्रवार, 7 सितंबर 2012

रिजवान कम ,कसाब ज्यादा हैं---




,




                        जिंदगी    में  जवाब  कम , सवाल ज्यादा हैं ,
                            दर्द देना अब बड़ी शख्शियत की निशानी है 

                            समाज  में रिजवान  कम ,कसाब ज्यादा हैं-

                            लुट  के  पैरोकारों ने ,पनाह  दी  लुटेरों  को ,
                           जब खुद हो गए शिकार,हरकत में सरकार,

                            आवाम   का   कम , उनका    दर्द  ज्यादा है -

                            जूतियों   को   पर  लगते  हैं  उड़ने  के लिए ,
                            दिल   को    रौंदते    हुए,  भरते    हैं   उडान

                            जमीन   थोड़ी, उनका   आसमान ज्यादा है -

                            पीने  वाले   खून , कभी   कुआँ  न   खोदते,
                            खोदना खाईयां,उनकी हसरतो- फितरत है ,

                            नेक बन्दे कम,हैवानों की तादात  ज्यादा है-

                            चुप   है  आसमान ,  धरती    भी   साथ  में ,
                            ख़िताब   -ए -  दस्तावेज, उनकी  हंसी  का ,

                             मुफ़लिसी   व   दर्द   से , वजन   ज्यादा है-

                            मुक्तसर  न  हुयी  गर्दिशें तमाम ,फिर  भी ,
                            हौसलों   ने    हासिल    किया       मुकाम,

                            मौजें बहा ले गयीं मकान,तूफान ज्यादा है - 

                                                                          उदय वीर सिंह .
                                                                           06 / 09  /2012




   


7 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

hi blognama.feedcluster.com owner found your site via Google but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have found site which offer to dramatically increase traffic to your website http://xrumer-service.com they claim they managed to get close to 4000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my site. Hope this helps :) They offer best services to increase website traffic Take care. Jeremy

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (08-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

मुक्तसर(मुख़्तसर ) न हुयी गर्दिशें तमाम ,फिर भी ,
हौसलों ने हासिल किया मुकाम,

मौजें बहा ले गयीं मकान,तूफान ज्यादा है - वतन में अब ईमान कम बे -ईमान ज्यादा हैं ....क्या बात है भाई साहब सलामत रहो देश में अब रिजवान कम कसाब ज्यादा हैं .
शुक्रवार, 7 सितम्बर 2012
शब्दार्थ ,व्याप्ति और विस्तार :काइरोप्रेक्टिक

सुशील ने कहा…

बहुत सही है
आवाम का कम , उनका दर्द ज्यादा है -

देश को शतरंज बनाने में आमादा है
आदमी अब आदमी कहां बस प्यादा है !

Anita ने कहा…

वाह ! दिल की गहराईयों से निकले शब्द..

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर
क्या बात

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

शब्दों के माध्यम से बहुत गहरी बात कही है।