गुरुवार, 18 अक्तूबर 2012

कोशिश हो रही है --


कोशिश हो रही है --

लोहे   के  चने   चबाने की
मनुष्य को ईश्वर बनाने की ,
नीर को ज्वाला बनाने  की ,
पहाड़  समतल  बनाने  की-

कोशिश हो रही है -
वतन को अपना बनाने की ,
रिश्तों  को समझ पाने की ,
इबारत   नए   ज़माने   की
संवेदना    भूल    जाने   की-
कोशिश हो रही है -

दही   से ,   दूध   पाने     की ,
हाथ   में  दही   ज़माने  की ,
बे-  जमीन  पौध उगाने की
जमीन   पर चाँद, लाने  की-
कोशिश हो रही है -

विज्ञान       का     दौर   है
इंसानियत भूल  जाने  की
दौर -ए-इश्क   का आलम
शराफत  नये  जमाने  की,
कोशिश हो रही है -

प्रदूषित हो  गयी  है फिजा,
निजात        पाने         की,
धरातल   शर्म  से   झुलसा
अनवरत निखार लाने  की-
कोशिश हो रही है-

कहने   में  जाता  क्या  है
एक  बृक्ष  हवा  में लगायें ,
खाली  पेट   भी  जिन्दा हैं
पेड़     में   पैसे उगाने  की,
कोशिश  हो  रही  है-

                                  -उदय  वीर सिंह





 


5 टिप्‍पणियां:

Kailash Sharma ने कहा…

बस गया है खून में फरेब
पेड़ में पैसे उगाने की
कोशिश हो रही है-

....बहुत खूब! आज की व्यवस्था पर सटीक चोट..

रविकर ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच में यही कोशिश हो..

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

भाई उदयवीर जी सत श्री अकाल |बहुत ही सुन्दर रचना और दशहरा के लिए मुबारकबाद |

आशा जोगळेकर ने कहा…

वाह बहुत ही बेहतरीन रचना है । कोशिश हो रही है असंभव को संभव बनाने की इंन्सानी मूल्य बदलने की ।