गुरुवार, 15 नवंबर 2012

हो मुकद्दर अपने देश के -



हो मुकद्दर अपने देश के -
________________
मेरे  देश  के  नौनिहालों ,तेरी सलामती  के  लिए   अरदास ,
दुआएं,शौर्य अदम्य साहस को सलाम,एक कविता तेरे नाम - 















सफल  होती  मेरी  पूजा  तुम्हें   देख  के 
लिखने  वाले  हो  मुकद्दर अपने  देश  के-
           स्मृतियों  में   नित्य छवियाँ 
           कहीं   गोवर्धन उठाने वाला ,
            कोई नाहर  के  दांत गिनता 
            कोई   सूरज  निगलने वाला 
माँ के लिए कटी है ,गर्दन  कभी गणेश के-
            इतिहास     लिखा  हुआ है 
            शूरवीरों    तेरे    खून     से,
            मुगलों   की  फ़ौज   कांपी,
           थी  लाचार   दो   मासूम से-
दीवारों में चुन गए दो,धर्मवीर  धर्मादेश के-
            बंदूक       बोने       वाला   
            अपने खेतों में,मिसाल है ,
            वतन   का    जर्रा -  जर्रा 
            अपने लालों से निहाल है-
कायल रहेगी धरती,नौनिहालों तेरे जोश के -
            बचपन    कहीं   न  खोये ,
            भूखा       कोई   न   सोये,
            हाथों   में  कलम किताबें ,
           आँखें    कभी     न      रोये-
कल  के   चाँद व  सितारे  हैं   अभिषेक  के -

                                   - उदय वीर सिंह  

5 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दिन अपने भी फिर बहुरेंगे।

रविकर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति ।

आभार भाई जी ।।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति!
बालदिवस के साथ भइयादूज की भी हार्दिक शुभकामनाएँ!

रविकर ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

बहुत उत्कृष्ट रचना | सुंदर |

ஜ●▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬●ஜ
ब्लॉग जगत में नया "दीप"
ஜ●▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬●ஜ