शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

लेजा अपना चाँद-


लेजा अपना चाँद, 
दे जा मेरा अँधेरा .....
कम से कम नजर
नहीं आएगा  वो चेहरा ...
जो हमसाया 
मेरीदुनियां का 
सरमाया था...|  
जिसमें लगे दाग
मैं ही नहीं ,
देख रही है पूरी कायनात ,
बयान करते हैं 
उसकी बेशर्मी बेवफाई ,दरिंदगी 
आखिर तो वो,
कहीं से पाया था ......|  
दे जा मेरे ख्वाब , 
तोड़ने के लिए, 
जिसे मैंने सजाया था ,
जो कभी  मेरा सरमाया था ....|

                            -उदय वीर सिंह 

4 टिप्‍पणियां:

expression ने कहा…

सुन्दर भाव....अच्छी रचना...
सादर

अनु

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रात पूरी घनी और काली है, कोई दाग नहीं।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

दे जा मेरे ख्वाब ,
तोड़ने के लिए,
जिसे मैंने सजाया था ,
जो कभी मेरा सरमाया था,,,

बहुत ही सुंदर भावों की प्रस्तुति,,,,
--------------------------

recent post : नववर्ष की बधाई

अरुन शर्मा "अनंत" ने कहा…

सुन्दर भावों को समेटे खूबसूरत प्रस्तुति बधाई