शुक्रवार, 17 मई 2013

जलाओ दिल मितरां कि....


जलाओ दिल मितरां कि चिराग जले 
अँधेरा  ही   अँधेरा   है  बहुत  दूर तक -

लगता  है  गर्दिशों  में  माहताब भी है
बादलों  का  बसेरा  है  बहुत  दूर तक -

जद्दोजहद है निकलने  की गिरफ्त से
उसकी बाँहों का घेरा है बहुत दूर तक ...

गुम है दामिनी भी नील निलय में कहीं 
सन्नाटों  का   डेरा  है  बहुत  दूर तक -

अंतहीन नीरवता में  बिम्ब की तलाश  
स्याह  रातों  का  सवेरा  है  बहुत तक- 

संवेदनाओं का द्वार कदाचित खुल ही जाये 
वेदनाओं का जखीरा है बहुत दूर तक -

                                       - उदय वीर सिंह

4 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दिशा मिले इस साहित्यिक उछाह को।

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

अच्छी रचना
बहुत सुंदर

expression ने कहा…

वाह..
अंतहीन नीरवता में बिम्ब की तलाश
स्याह रातों का सवेरा है बहुत तक-
बहुत सुन्दर!!

सादर
अनु

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर !

अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
latest postअनुभूति : विविधा
latest post वटवृक्ष