शुक्रवार, 6 सितंबर 2013

तेरा वंदन ...

सदैव की भांति आज भी गुरु शिक्षकों का हृदय से वंदन -

स्पंदन    गुरु      जीवन   के 
शत-  शत   बार  तेरा वंदन ...
आलोक  तिमिर में संजीवन 
अभिनन्दन   है अभिनन्दन

टूटे  कारा , अज्ञान  दर्प  की 
प्रज्ञा   बसती  है  मानस  में 
युग्म   स्नेह   के   बनते  हैं,
खिलते प्रसून वन-कानन में-

अभ्नव शिल्प के   अग्रदूत
मंगलमय   तुमसे   जीवन -

संवेदन    आचार      निहित 
विहित  होती  गरिमा तुमसे 
संस्कार संस्कृति पथ शुचिता 
मधु   सरिता  बहती  तुमसे -

आकार नियंत्रण सृजन सौम्य  
बस   जाता   बंजर    निर्जन -

नील  गगन, बसुधा  तल  में
चक्षु   तेरे    प्रहरी    सम   हैं 
देश , दिशा, कालों   के  ब्रती 
निर्देश अशेष नित निर्मल हैं -

जग   सोये   तू   ,जाग्रत  है
युग  पावन   सद्द   अंतर्मन -

                           उदय वीर सिंह    

6 टिप्‍पणियां:

अनुपमा पाठक ने कहा…

वंदन गुरुचरणों में, साकार कर दिया शब्दों ने!

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - शिक्षक दिवस पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

अरुन शर्मा अनन्त ने कहा…

नमस्कार आपकी यह रचना आज शुक्रवार (06-09-2013) को निर्झर टाइम्स पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर
latest post: सब्सिडी बनाम टैक्स कन्सेसन !

Onkar ने कहा…

गुरु के सम्मान में सुन्दर कविता

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वन्दे श्री गुरुवे नमः