बुधवार, 3 सितंबर 2014

अवाम के जानिब.....


फतवे  और  फरमान  तो हैं आवाम के जानिब 
दंगे ओ फसाद हैं हिन्दू- मुसलमान के जानिब -

कोई भी लक्षमन -रेखा फतवेदारों के लिए नहीं 
सारे नियम कानून हैं मजलूम इंसान के जानिब-

गोंद में पोते -पोतियां है गैर मजहबी दामाद के
संस्कृति संस्कार की बातें हैं अवाम के जानिब-
   
सेक्यूलरिज्म शब्द गवारा नहीं मंचों पर जिन्हें 
घर खुला  मैदान  है बिधर्मी मेहमान के जानिब -  

-उदय वीर सिंह  

4 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह बहुत बढ़िया ।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

badhiya gazal

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बढ़िया अशआर।
एक शेर और होता तो मुकम्मल ग़ज़ल हो जाती।

आशीष भाई ने कहा…

सुंदर रचना सर !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 5 . 9 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !