बुधवार, 17 सितंबर 2014

वेदना को प्यार दे दो -


पथ प्रतीक्षित कामना  के
प्रीत को आकार दे दो -
मधु अधर, मृदु कंठ में है
मद गीत को आभार दे दो -
हो सुवासित नभ क्षितिज  नित
बीज को आधार दे दो -
क्लांत मन अवसाद त्यागे
वेदना को प्यार दे दो -
प्रमाद की विष ग्रन्थियां तज
पथ विषम सहकार दे दो -
सज उठेंगे नैन सूने
स्वप्नों का संसार दे दो -

- उदय वीर सिंह

3 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह !

आशीष भाई ने कहा…

बहुत सुंदर सर धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 18 . 9 . 2014 दिन गुरुवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

Lekhika 'Pari M Shlok' ने कहा…

Waah...bahut zabardast rachna.. Prastuti ke liye baadhayi!!