बुधवार, 31 अगस्त 2016

अनुशासन के अनुशीलन

मंदिर मस्जिद काशी काबा
अनुशासन के अनुशीलन 
क्यों शांति ढूढने मानस की
च्युत मधुशाला को जाता है -
असफलताओं को ढकने खातिर 
कितने ढोंग रचाते वीर 
जीवन से भागा कायर कामी 
होकर मधुशाला से आता है -
तोड़ प्राचीर प्रबंध प्रलेखों की 
उन्मत्त उन्माद का संयोजक 
संस्कारशाला कारा सी लगती है 
गिरता मधुशाला को जाता है -
अंतहीन व्यथा की चौखट पर 
सर्वस्व लूटाने को तत्पर है 
मायावी स्वप्निल पात्रों में मद 
भरने मधुशाला जाता है -


- उदय वीर सिंह

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (01-09-2016) को "अनुशासन के अनुशीलन" (चर्चा अंक-2452) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'