रविवार, 10 जनवरी 2021

रोटी मेहनत की देना दाते .....

 बख्सो अगर जो दौलत

मोहब्बत की देना दाते ।
गुरबत मुझे कुबूल,रोटी
मेहनत की देना दाते।
नेमत की सल्तनत में ,
मेहरामत की देना दाते।
गर नूर हो नजर में, तो
शराफत की देना दाते।
उदय वीर सिंह

कोई टिप्पणी नहीं: