बुधवार, 21 अगस्त 2013

राखी नजर खोलती है -

राखी नजर खोलती है -
*****
आसमां   डोलता  है   जमीं   डोलती  है  
मेरे   वीर   की   जब   जुबां  बोलती  है   -

नेह   संकल्प   का   आईना  मुस्कराए  
एक  प्यारी  बहन  की  ख़ुशी बोलती है  -

कच्चे  धागों  ने बाँधे हैं फौलाद  को भी
जब  अनमोल  बंधन  बहन  बांधती है -  

वचन  है , वसन है , शमशीर   समिधा 
मान  सम्मान खातिर  चली है जली है-

जाति ,मजहब फिरकों से बहुत दूर धागे
भाई - बहना की राखी नजर खोलती है -

                                    - उदय  वीर सिंह.  




5 टिप्‍पणियां:

अनुपमा पाठक ने कहा…

जाति ,मजहब फिरकों से बहुत दूर धागे
भाई - बहना की राखी नजर खोलती है -

बहुत सुन्दर!!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

भाई बहन के पावन प्रेम के प्रतीक रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ.!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज बुधवार (21-08-2013) को हारे भारत दाँव, सदन हत्थे से उखड़े- चर्चा मंच 1344... में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर
सार्थक पहल

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

जाति ,मजहब फिरकों से बहुत दूर धागे
भाई - बहना की राखी नजर खोलती है -बहुत सुंदर
latest post नेताजी फ़िक्र ना करो!
latest post नेता उवाच !!!


प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रक्षा की पुकार सदा ही रही है, उसी आश्वासन का उत्सवीय प्रतिरूप है रक्षाबंधन।