मंगलवार, 20 फ़रवरी 2024

रुई की फसल ....


 








रुई की फसल ....✍️

बाजार  खुला  है व्यापार  कर लो।

जो  कृपा  चाहिए  दरबार  कर लो।

सच दफ़न करने का हुनर मालूम है,

मगर झूठ पर थोड़ा ऐतबार कर लो।

जमीन बिकाऊ है खरीद लो बेच लो,

रुई की फसल,सेब की पैदावार कर लो।

खून व पसीना बहाने की जरूरत क्या,

अगर  पूंजी  नहीं  है उधार  कर  लो।

सुना  सच  की  गायकी  में आनंद नहीं,

आनंद में होगे झूठ को नमस्कार कर लो।

उदय वीर सिंह।

विश्व पुस्तक मेले में मेरी पुस्तकें..


 🙏🏼नमस्कार मित्रों 

   कुछ व्यस्तता व अस्वस्थता के के कारण विश्व पुस्तक मेले में चाहत के वावजूद भी सम्मिलित न हो सका मेरे लिए दुःखद रहा। मूर्धन्य विद्वतजनों व मित्रों के सानिध्य से वंचित रह गया। फिर भी मेरी कुछ पुस्तकें मेले में उपस्थित रहीं प्रकाशकों का हृदय से साधुवाद।

    मेरा प्रतिनिधित्व मेरी सुपुत्री उन्नयन कौर ने मेले में किया,बेटे को शुभाशीष व साहसिक कृत्य के लिए उन्हें बधाई। आप सभी मित्रों लेखकों कवियों पाठकों को मेरा प्रणाम  व आत्मीय बधाई। आशा करते हैं अगले मेले में मुलाकात होगी।


उदय वीर सिंह।

सोमवार, 19 फ़रवरी 2024

शब की गुफाओं में ...









 
......✍️

वक्त भी ख़ुदा होना चाहता था गुजर गया।

पत्थर होना चाहता  था मगर  बिखर गया।

उगा सूरज  बदगुमां  था कि वो डूबेगा नहीं,

शब की कहीं अंधेरी गुफाओं में उतर गया।

हंसता  रहा  मासूम  बस्तियों को बर्बाद कर,

बेअन्दाज़ तूफान  भी किश्तों में उजड़ गया।

उदय वीर सिंह।

बुधवार, 7 फ़रवरी 2024

परिंदों के हाथ आरियां देकर.....


 






परिंदों के हाथ आरियां...✍️

दरख़्त सदमें में नहीं परिंदों के
हाथ आरियां देखकर।
वह  ग़मज़दा  है बहेलिए की
खेली पारियां देखर।
उन्हें कल कोई साख न मिलेगी
गुजारने को रातें,
दहशतज़दा है उनकी कल की
दुश्वारियां देखकर।
देकर आबो दाना इक महबूब सा
हमदर्द हो जाना
वृक्ष खौफ़जदा है झोले में जाल
शिकंजा छुरियां देखकर।
उदय वीर सिंह।

बुधवार, 31 जनवरी 2024

गमलों में बरगद...


 








गमलों में बरगद..✍️

घर उजाला तब हुआ जब दीपक जलाया मैंने।

रोशनी तब देखी जब पलकों को उठाया मैंने।

इफरात  थीं खुशियां ख्वाबो नींद के सफ़र में,

मंजिल तब पाया जब कदमों को चलाया मैंने।

खून - पसीने की रोटी कोई कहानी लगती  थी

मोल  तब  जाना जब अपनी रोटी कमाया मैंने।

बरगद  गमलों  में उगा  देख  हंसा था हाकिम

फटी रह गयी आंखें जब बगीचे में लगाया मैंने।

उदय वीर सिंह।

सोमवार, 29 जनवरी 2024

रोड़े बिछते चले गए...


 








रोड़े बिछते चले गए..✍️

घर अपने- अपने कमरों में बंटते चले गए।

वृक्ष सीधे सपाट सरलता से कटते चले गए।

मोहाजीर मजरे भी बेरुखी से अनछुए न रहे,

छोटे,बड़े उम्मत,फिरकों में बिखरते चले गए।

रोटी,कपड़ा घर से बड़ी दीनी तंगदिली हुई,

मानवता के स्वर नीचे पैरों के दबते चले गए।

तर्कों  विज्ञान  की मसखरी सरे बाजार देखी,

पाखंड झूठ अन्याय के तारे उभरते चले गए।

सत्य सुनने समझने में स्व लिप्सा आड़े आयी

समतल क्षितिज  पर रोड़े  बिछते चले गए।

उदय वीर सिंह।

गुरुवार, 25 जनवरी 2024

हमारी जमीन पर ...









हमारी जमीं पर...✍️

हमारे  मुँह  से  अपना पैग़ाम  चाहता है।

हमारी जमीं पर अपना मकान चाहता है।

लिखूं खून या स्याही से अधिकार लिखूंगा,

लश्कर  रहजनों का  गुलाम  चाहता है।

मौसम के  तेवर कुछ  अच्छे नहीं लगते,

जरूरत शीतल पवन की तूफ़ान चाहता है।

बड़ी मुशकिलों से सहेजे थे परों को अपने

अब परिंदों से छीनना आसमान चाहता है

उदय वीर सिंह।

शनिवार, 20 जनवरी 2024

रहजनों के हवाले सफर ..


 








रहजनों के हवाले...✍️

जानवर  से हुए आदमी धीरे- धीरे।

आदमी हो गया जानवर धीरे- धीरे।

ख़बर थी मोहब्बत से दुनियां भरेगी,

नफ़रत  के  बादर  घिरे  धीरे -धीरे।

वसीयत में थी सच्च की बादशाहत,

झूठ की आग में वो जली धीरे-धीरे।

सफ़र की निजामत सदर के हवाले,

रहजनों के हवाले सफ़र धीरे- धीरे।

उदय वीर सिंह।

गुरुवार, 18 जनवरी 2024

तोड़ो वो अनुवंध


 








.तोड़ो वो अनुवंध.......✍️

तोड़ो वोअनुवंध समस्त जो षडयंत्रों से कारित हैं

मदिरालय की अनुशंसा हित साकी के पारित हैं।

प्रारव्ध हमारा शोक नहीं उत्सव के अधिकारी हैं,

पथ वही अवशेष रहें जो मूल्यों पर आधारित हैं।

भाष्य नहीं पथ-पंथों का भोजन गेह वसन ऊपर

शिक्षा की हो पवन मुक्त जो बाड़ों में बाधित हैं।

उदय वीर सिंह।

मंगलवार, 16 जनवरी 2024

काल कैसा होगा..






 

कल कैसा होगा....✍️

टूटी परंपरा टूटते मिथकों का
का कल कैसा होगा।
जब हवा घुली विष तत्वों संग
तत परिमल कैसा होगा।
पाखंड दम्भ छल ईंटों की जो
रंगशाला निर्मित होगी,
पग सांकल मर्यादा संस्कारों के,
फिर उत्सव कैसा होगा।
मृग मरीचिका को मीठा जल
कब तक माना जायेगा,
सागर से लौटी सरिता का वीर
बोलो जल कैसा होगा।
पंचों की आंखों को जब दिखते
अपने और पराए हों,
हरिया और हरनाम  के मसलों
का हल कैसा होगा।
उदय वीर सिंह।

सोमवार, 8 जनवरी 2024

मेरी जबान ले गया..


 





मेरी जबान ले गया.....✍️

झूठ  बोला और सच का इनाम ले गया।

देकर थाली में भात मेरा मकान ले गया।

दिखाकर  मंजर  मेरी बर्बादियों का वीर,

सील  कर  मेरे होंठ मेरी जुबान ले गया।

रहजनों का इतना खौफ़ रस्ता सहम गया,

गुनाह  किसी और का ,मेरा नाम ले गया।

सुन कर कथा फरेब  की मुतमईन हो गए,

मेरे पैरों की जमीन,मेरा आसमान ले गया।

उदय वीर सिंह।

शुक्रवार, 5 जनवरी 2024

मशहूर तो है .....✍️


 






....मशहूर तो है...✍️

फरेब  से लबरेज़ गुरुर तो है।

मैकशी से ईश्क, सुरूर तो है।

पाया विपदा में मौके का हुनर

मजबूरों के बीच मगरूर तो है

खाप मंसूख हुई बाद फैसले के

कसूरवार, एक बे-कसूर तो है।

नहीं  है  पीने  को  साफ  पानी,

पीने  को  शराब  भरपूर तो है।

 ये जमीं जानती है,आसमां भी,

बदनाम है तो क्या मशहूर तो है।

सिर कलम करते हैं बड़ी अदा से

सिजदे  का  खासा दस्तूर तो है।

उदय वीर सिंह।

सोमवार, 1 जनवरी 2024

स्वागतम- 2024





 🌹मंगलमय हो नूतन वर्ष-24..🌹

अमन ,चैन से  जग न खाली  रहे।
हर दामन में उल्फत ख़ुशहाली रहे।
इल्म का नूर आंखों में कायम रहे,
न  सवालों  में  उलझा सवाली रहे।
हसरतों की जमीं को सहारा मिले
सुबह होली संझा को दिवाली रहे।
उदय वीर सिंह।

हे!नूतन वर्ष प्रणाम हमारा..✍️


 



हे!नूतन वर्ष प्रणाम हमारा...🙏

जाने  वाला  जाएगा ही 

आने वाला कहाँ रुकेगा।

काल चक्र का चलता पहिया

सतह  नहीं  कहां टिकेगा।

इसके खांचों  में  ढलना है

प्रदत्त  पथों  पर  चलना है।

अमन , चैन  के गीत लिखेंगे

कहेंगे  अपनी , पीर  सुनेंगे।

मनुष्यता की छांव भली हो

प्रीत  हृदय  में  भरी पड़ी हो।

क्यों कर वैर मनस में रखना

सदाचार की जोत जली हो।

दो कर जोड़ अरदास है रब से

जुड़ा बंधुत्व का तार हो सबसे

भूख ,अबल, निर्धनता  जाए

सकल  नैन  खुशहाली आये।

मानुष की जाति पछानो एकै,

सकल धर्म सम भाव सहजता

रहे  प्रीत  मिट  जाए  कटुता।

राष्ट्र - प्रेम  के गीत अधर  हों,

सुघर सृजन के बिम्ब नगर हों

मर्म संवेदन कीआधारशिला हो।

परहित जीवन सत्यार्थ मिला हो।

एका , प्रेम का पयाम हमारा।

हे ! नूतन  वर्ष  प्रणाम हमारा।

उदय वीर सिंह।

शुक्रवार, 22 दिसंबर 2023

सफ़र ए-शहादत


 



....सफर-ए-शहादत...✍️

सवा  लाख  ते  एक लड़ाऊं

चिड़ियन  ते  मैं बाज तुड़ाऊँ,

तबै गोबिंद सिंह नाम कहाऊँ.....।

           (श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज)

चमकौर का युद्ध ( 21,22,23 दिसंबर 1704 ई. (विश्व काअद्वितीत्य युद्ध)

   गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज सहित, 2 साहिबजादे, 40 गुरू-सिक्ख और 10 लाख से अधिक मुग़ल फौज के बीच लड़ा गया युद्ध । जिसमें दो साहिबजादे बाबा अजित सिंह जी (उम्र 17 वर्ष), बाबा जुझार सिंह जी (उम्र 14 वर्ष),और 40 गुरू-सिक्खों ने अद्वितीय अकल्पनीय शौर्य साहस व रण कौशल के साथ रणभूमि में शहादत पाई।  

****

शब्द नहीं मिलते मर्म बयां करने को 

जबान हारी लगती है।

एक  तूँ  ही  मीरो  पीर है दाते बाक़ी 

दुनियाँ भिखारी लगती है।

मांगा तो ख़ैर  ही मांगा पूरी कायनाते 

इंसानियत के वास्ते,

तेरीआशीष कीओट किसी कहकशां से

कहीं भारी लगती है।

उदय वीर सिंह🙏🏼

बुधवार, 20 दिसंबर 2023

जब आग पानी का व्यापार करने लगे







 ........✍️

देशभक्ति पर प्रबचन गद्दार करने लगे।

न्याय  का प्रबंधन अखबार करने लगे।

आग  न  रह  पाएगी  फिर कभी आग,

जब आग पानी का व्यापार करने लगे।

बांझपन का शिकार हो जाएगी वो नस्ल,

यदि अपराध की रक्षा दरबार करने लगे।

लकवाग्रस्त हो जाएंगे औषधि शोध-संस्थान,

रोग  का अध्ययन तीमारदार करने लगे।

कितनी होगी रखी कोईअमानत महफ़ूज,

नकबजनों की पहरेदारी पहरेदार करने लगे।

उदय वीर सिंह।

रविवार, 17 दिसंबर 2023

शहीद गुरु तेग बहादुर जी महाराज..


 🌹 " हिन्द की चादर"🌹

" शहीद गुरु तेग बहादुर जी महाराज "

नवम पातशाह श्रीगुरु तेग बहादुर जी महाराज के पावन वलिदान दिवस ( मिती 24 नवंबर 1675 चांदनी चौक दिल्ली ,आततायी मुग़ल शासक औरंगजेब के द्वारा इस्लाम क़बूल न करने पर निर्ममता पूर्वक शहीद किया गया) के अवसर पर कोटिशः प्रणाम वंदन🙏

***

गुरु  पीर  है तूं मीर है तूं 

हमराह  है  परमार्थ  की।

दर सिर झुकाता हिन्द तेरे 

त्याग की वलिदान की।

इश्क़ तेरा धर्म से इंसान से ईमान से,

फानूस बनकर आप आये

 राष्ट्र कौम के सम्मान की।

श्री गुरु चरणों में शत शत नमन..🌹🙏

उदय वीर सिंह।

शुक्रवार, 17 नवंबर 2023

रुबाई नहीं होगी


 





......✍️

समस्या हमारी  है पराई नहीं होगी।
बिना फतह  के  रिहाई  नहीं  होगी।
रखना होगा शब्दों को सही सतर में,
बिना अल्फाज़ों के रुबाई नहीं होगी।
गंदगी जमा है  ये कहना काफी नहीं,
बिना सड़क पे उतरे सफाई नहीं होगी।
रिश्ते  बने रहेंगे कई पीढ़ियों तक वीर
आये मेहमान की क्यों विदाई नहीं होगी।
रास्ते  कभी  बंद न होंगे अमनो चैन के,
कैसे मसीहों की आवाजाही नहीं होगी।
वक्त ने न दिया इससे उदास क्यों होना
बदल देंगे वक्त कोई ढिलाइ नहीं होगी।
उदय वीर सिंह।

बुधवार, 15 नवंबर 2023

उदास नहीं होता...








..........✍️

मूर्ख को निज मूर्खता का अहसास नहीं होता।

विद्वता पर कदाचित उसे विस्वास नहीं होता।

ढूंढता है चटख उजालों में गहन अंधेरा अक्सर

किये निज पापों का कभी पश्चाताप नहीं होता

काटता है उसी  डाल को जिसपर बैठा होता है

जलाकर अपना घर  किंचित उदास नहीं होता।

काग़जी  नाव से किनारा पाने का खूब कौतुक

खड़ा हो जमीन पर कहता आकाश नहीं होता।

उदय वीर सिंह।

मंगलवार, 14 नवंबर 2023

सत्य को सत्य कहा हूँ मैँ...







 .....✍️

सत्ता और सिंहासन के वृत

पथ  से   दूर   रहा  हूँ  मैं।

अभय रहा निशिवासर मन

सत्य  को  सत्य कहा हूँ मैं।

षडयंत्रों, घातों  की  विधि 

विजय कदाचित मिल जाती,

प्रवाह पाप की विष धारा के

सदा  प्रतिकूल  बहा  हूँ  मै।

किंचित दुख  न व्याप  सका 

कभी हार -जीत  के होने पर

चलने  की अटल प्रत्याशा में 

भू कितनी  बार  गिरा  हूँ  मैं।

अवसर न मिला रोने हंसने का

निज राह  कहे  चलते  रहना,

बिसर  गया अपना उर  वेदन

घावों को कितनी बार सिला हूँ मैं।

उदय वीर सिंह।

13।11।23