शनिवार, 7 फ़रवरी 2015

दोहों से अनुराग -

सच्चा प्रेम गरीब का ,बंधन - मुक्त सूजान
मंदिर में श्रीराम भजे, मस्जिद में रहमान - ।।
**
प्रीत ठौर न बाँधिए कर मुक्त- हस्त सम्मान
शिखर शीश आसन मिले जब छूटा अभिमान -।।
***
झुका शीश सम्मान में अप्रतिम संचित मान
झूठा दंभ बंचित सदा पाता अपयश अपमान - ।।
***
त्यागा स्नेह गरीब का ,त्यागा तरुवर छांव
पावस में छाजन नहीं , जला ज्येष्ठ में पाँव - ।।
***
उदय वीर सिंह

2 टिप्‍पणियां:

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 8-2-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1883 में दिया जाएगा
धन्यवाद

Onkar ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति