रविवार, 17 जून 2018

शहीदी पर्व गुरु अर्जन देव जी महाराज

शहीदी पर्व - [वलिदान मेरा संस्कार है ... धर्म मेरा प्यार है ]
विनम्र श्रद्धांजलि ...... !
अमर शहीद पंचम गुरु, गुरु अर्जन देवजी महाराज !
॥जपियों जिन अर्जन देव गुरु ॥संकट योनि गरभ न आयो ॥ वाणी 
 सिक्ख धर्म के पंचम गुरु अर्जन देव जी महाराज [जन्म 15 अप्रैल 1553 गोबिंदवाल साहिब पंजाब । वलिदान दिवस 16 जून 1606 डेरा साहिब लाहौर पाकिस्तान ] माँ भानी जी व पिता गुरु रामदास जी महाराज के आँगन अवतरण। 
 मुग़ल बादशाह जहाँगीर के शासन काल में इस्लाम कबूल न करने,भारतीय संस्कृति संस्कारों की आवाज बुलंद करने भारतीयता की जड़ों को मजबूती व सिंचन के आरोप में मृत्यु के दुर्लभतम यातना के अमानवीय तरीकों द्वारा गुरु महाराज को मृत्युदंड दिया गया । फिर भी वे अपने संकल्प विचार संस्कार संस्कृति को लेस मात्र भी धूमिल नहीं होने दिए, असह्य कष्टो तसीहों आरोपों से विचलित नहीं हुए,अटल रहे अपने अनुयायियों के अटल प्रेरणा स्रोत बने रहे।
उनके शहादत दिवस पर अश्रुपूरित विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। उनकी विरासत के सच्चे वारिस बन सकें अरदास करते हैं ।
उदय वीर सिंह

शनिवार, 16 जून 2018

इंतजार में ख्वाब बैठे हैं ....

आप के इंतजार में ख्वाब बैठे हैं
वो कह रहे थे हम जाग बैठे हैं -
बिछी है मगहर में कमली उनकी
आप काशी काबा प्रयाग बैठे हैं -
आसमां एक जमीं मिली कमोबेस सबको
आप हैं की ले नया राग बैठे हैं -
कोयल की मांग थी जमाने को
कंगूरो बाग में अब काग बैठे हैं -
ग्रंथ कहते हैं मानवता से बड़ा कोई
ये सूत्र वाक्य भी त्याग बैठे हैं
सहेज रखता है पन्नो को माजी
गौर से देखिए कितने दाग बैठे हैं -
आस्तीन में न्याय प्रेम रखिए
टटोल कर देखिए नाग बैठे हैं
भरोषा रखिए मीरीऔर पीरी का
गुरुज्ञान के तमस में चिराग बैठे हैं -
उदय वीर सिंह


शनिवार, 9 जून 2018

पाँवों मेंजंजीरें थीं

गंतव्य मेरे मानस मन में
रुँध पाँवों में जंजीरें थीं
हाथ हमारे कलम हमारी
हर तरफ तनी शमशीरें थीं -
स्तब्ध था मैं प्रारव्ध देख
निज हस्त प्रबल लकीरें थीं -
पुण्य प्रसून मोद की आशा
स्वागत कमान और तीरें थीं -
धूल धूसरित पैबंद बसन मम
वहाँ रत्न जड़ित तस्वीरें थीं -
भरे राज सिंहासन तन से
अवशेष प्रचुर सलीबें थीं -
उदय वीर सिंह

गुरुवार, 31 मई 2018

लोकतन्त्र एक सुंदर शब्द ,


एक वो थे लोकतन्त्री  दरवेश 
 एक ये भी लोकतन्त्र के राज रहे 
लोकतन्त्र एक सुंदर शब्द ,
भाव सुंदरतम साज रहे -
संवेदन करुणा सहकार मरे 
समर्थ मनोरथ पाल रहे -
ज्ञानी गुणी गतिशील मनीषी
स्तब्ध निःशब्द अवसाद में हैं
हुए तिरोहित तत्व मनुखी
दैत्य उदण्ड द्वारपाल बने -
लगते ताले मूलभूत अधिकारों पर
प्रलाप प्रलंभ की छाया है
कायर कामी कपटी लोभी
अपनी परिभाषा में ढाल रहे -
गौरव शौर्य यश प्रेम प्रतिष्ठा
विनिमय के पलड़े झूल रहे
जिसकी लाठी भैंस उसी की
नैतिकता कुएं में डाल रहे -
उदय वीर सिंह

रविवार, 20 मई 2018

मैं अकिंचन.....

मैं अकिंचन.....
मैं अकिंचन अक्षरहीन 
नयनन की भाषा लिखना
चाह विमर्श की होती है 
प्रियतम की गाथा लिखना 
सरल हृदय का भाषी हूँ ,
भाव सरल भाषा लिखना ... ।
भाव समन्वय की गतिशील रहे
अविरल प्रवाह गति मंथर मंथर
संवाद मौन की गगन दुंदुभि
नाविक प्रयाण पथ सदा निरंतर -
स्वर प्रकोष्ठ के नाद करें
जाग्रत अनंत जिज्ञाषा लिखना -
स्पर्श मलय का अभिनंदन
होने का प्रतिपादन कर दे
यत्र तत्र बिखरे शुभ परिमल
एक बांध सूत्र सम्पादन कर दे -
बाँच सके निर्मल मन मेरा
भाष्य नवल परिभाषा लिखना ......... ।
पुण्य प्रसून आरत यश भव की
स्नेहमयी आशा लिखना .....
सरल हृदय का भाषी हूँ ,
भाव सरल भाषा लिखना ... ।
उदयवीर सिंह

रविवार, 13 मई 2018

माँ पावन, माँ प्रज्ञा है

माँ पावन माँ प्रज्ञा है ... ...हर दिन माँ की दात..! ; कोटिशः प्रणाम 
' माँ की दुनियाँ संतान से आरंभ हो संतान पर खत्म होती है ' । 
***
ये बाग हरा,वरक सुनहरा न होता ,
तेरे आंचल की छांव,नेह का अमृत 
माँ अगर जीवन में भरा न होता -
उदय वीर सिंह

सरल हृदय का भाषी हूँ ......

मैं अकिंचन अक्षरहीन
नयनन की भाषा लिखना
चाह विमर्श की होती है
प्रियतम की गाथा लिखना
सरल हृदय का भाषी हूँ ,
भाव सरल भाषा लिखना ...
भाव समन्वय की गतिशील रहे
अविरल प्रवाह गति मंथर मंथर
संवाद मौन की गगन दुंदुभि
नाविक प्रयाण पथ सदा निरंतर -
स्वर प्रकोष्ठ के नाद करें
जाग्रत अनंत जिज्ञाषा लिखना -
स्पर्श मलय का अभिनंदन
होने का प्रतिपादन कर दे
यत्र तत्र बिखरे शुभ परिमल
एक बांध सूत्र सम्पादन कर दे -
बाँच सके निर्मल मन मेरा
भाष्य नवल परिभाषा लिखना .........
पुण्य प्रसून आरत यश भव की
स्नेहमयी आशा लिखना .....
सरल हृदय का भाषी हूँ ,
भाव सरल भाषा लिखना ...
उदयवीर सिंह




शुक्रवार, 11 मई 2018

फर्ज गुमनाम दिखते हैं

अधिकारों के झुरमुट बढ़ रहे
फर्ज गुमनाम दिखते हैं
षडयंत्रों की शाला झूठ बुलंद
हासिए पर वलिदान दिखते हैं -
खेतों से अन्न गायब हो रहे
शहरों में किसान दिखते हैं
मजलूम बेबस निरीहों में रावण
पाखंडियों में राम दिखते हैं -

उदय वीर सिंह

बुधवार, 2 मई 2018

पीर प्रेम परिहास बने ...!

पीर प्रेम परिहास बने ---- ! 
प्यासा मांगे पानी वीर 
मदिरा का गान सुनाते हो 
अस्मत का चीरहरण करके 
रेशम के वस्त्र कजाते हो -
वेदन की व्याख्या जिह्वा से 
मधुरस घोल बिलखते हो 
रिसते घावों का संज्ञान नहीं 
मरने पर मान दिखाते हो -
आँखों में आश खुशहाली की 
विश्वास हृदय में ले बैठा 
मरुधर में गंगा उपवन होंगे 
याचक को ज्ञान बताते हो -
घाव हथेली बहते बहुतेरे 
फिर भी हाथ नहीं रुकते 
दुर्दिन दुर्भिक्ष दैन्यता तेरी 
उसको प्रतिदान बताते हो
कर्म करो फल आशा कैसी 
मैं प्रतिछाया तेरी काया का 
अमावस की रात अंधरों में
तज दूर बहुत हो जाते हो -
करते गल संवेदन की 
वेदन का किंचित भान नहीं 
दया प्रेम करुणा की शाला 
नेह उद्यान लाते हो-
उदय वीर सिंह





रविवार, 29 अप्रैल 2018

एक सौदा मर्यादा का -------- ।

एक सौदा अब मर्यादा का भी --------  
हम भूल गए हैं ज़िम्मेदारी 
बात गई है ठेके पर 
शयन भूमि पर सौदा सच्चा 
खाट गई है ठेके पर -
खोदो कुआं राह मिलेगी 
बाट गई है ठेके पर -
हँसना भी ठेके पर हो 
रात गई है ठेके पर 
दूल्हा दुल्हन की खैर करो 
बारात गई है ठेके पर -
सूना चूल्हा खाली बटलोई 
परात गई है ठेके पर 
गौरव मर्यादा की बात पुरानी 
सौगात गई है ठेके पर -
कम पड़ते हैं कर आय अंश 
इमदाद गई है ठेके पर -
आँखों का पानी मरता
लाज गई है ठेके पर
 कैसे मंजिल जा दस्तक देंगे 
लात गई है ठेके पर -
अक्षम होते तंत्र हमारे 
अब बात गई है ठेके पर -
उदय वीर सिंह