शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2011

*** प्यार की गली ***

लिपटी   चादर  में  मैनें , विलोका   तुम्हें  ,
क्या  छुपाया है  अब    तो बता    दिजीये ------

राज   राह  बजाएगा   ,चैन  मिलना   नहीं ,
खुद नकाबों  को  अपने     हटा   लीजिये  -----

सामर्थ्य     है   जब    तलक      साँस   है ,
टूटने   पर    सिकंदर   जर्रा   बन   गया ,

डूबना  ही    पड़ा    अफ्फ्ताब- ए    -शहर  ,
जख्में  शबनम  बहा  जलजला  बन गया  ----

क्या  है हस्ती  तेरी कुछ   मुकम्मल  नहीं
सिर  मुकम्मल  के  दर  नु झका  लीजिये -----

मिलती   है     दुआएं    सदा   मुफ्त   में ,
देने   वाले   के   रस्ते   में   सजदा    करो   ,

लिए पैगाम -ए-उल्फत  फिरे  हर  गली ,
उस   मालिक   के  घर का  पता  पूछिये ------

                                   उदय वीर सिंह
                                     ३/०२/२०११ .

  

1 टिप्पणी:

ehsas ने कहा…

दिल से पूछा तेरे , साथ कितना सफ़र ?
मुस्कराया कहा बस कदम दो कदम है

वाह। बहुत खुब।