शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011

*** शाम हुयी तो ,सुबह हुयी***

गम  भुलाने  की खातिर ,मधुशाला   नहीं ,
मंदिरों   की   तरफ   भी  नजर   कीजिये    ****

छुट  जाये  आशाओं  की जब   हर  डगर ,
फकीरों   की  गलियों   में  घर   लीजिये     ****

                खुबसूरत   हृदय    में     मुहब्बत    रहे 
                गम  सिमट   जायेंगे   ,हौसला   चाहिए ---
                हर  रस्ते  में  है , ढूंढ़  लो  , तुम   ख़ुशी ,
                चाहिए  क्या    तुम्हें  , फैसला    चाहिए  ----
प्यार  खुद   से   करो ,  जर्रा  - जर्रा    हँसे  ,
हँसने  वालों  को  ,हँसने  का  स्वर दीजिये    ****
                सौगात   है  जी    कदम   हर    कदम ,
                कुछ  ठोकर   न  रस्ते  की  पहचान हैं  ---
                कुछ   काँटों  से मधुवन  कंटीला  नहीं  ,
                आंशुओं  के  सृजन  में  भी मुस्कान है -----
राह -ए-  मंजिल   में , हरदम   धोखा  ही  नहीं , 
उपरवाले  पर  कुछ   तो     यकीं     कीजिये   ****
                 टूट  जाना ,  बिखरना ,  मुनासिब   नहीं  ,
                आँधियों   के  सहर  से  गुजर   लीजिये  ****
डूबना   ही     पड़े    दिल   से   डुबो    उदय ,
बहती   गंगा ,  संतों   की   उतर    लीजिये  ****   

                  गम भुलाने के खातिर ,मधुशाला  नहीं ------

                                                         उदय वीर सिंह 

 

3 टिप्‍पणियां:

Kailash C Sharma ने कहा…

छुट जाये आशाओं की जब हर डगर ,
फकीरों की गलियों में घर लीजिये ****

बहुत सार्थक और प्रेरक रचना..बहुत भावपूर्ण और सुन्दर...आभार .

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

राह-ए- मंजिल में, हरदम धोखा ही नहीं ,
उपरवाले पर कुछ तो यकीं कीजिये
टूट जाना , बिखरना , मुनासिब नहीं ,
आँधियों के सहर से गुजर लीजिये
डूबना ही पड़े दिल से डुबो उदय ,
बहती गंगा ,संतों की उतर लीजिये.....

बहुत सुन्दर और भावपूर्ण काव्य रचना के लिए हार्दिक बधाई।

सतीश सक्सेना ने कहा…

कमाल का लिखते हो, सीधा मन छूने में कामयाब ! शुभकामनायें आपको !!