रविवार, 19 जून 2011

**सतनाम भेज देना **

                                                           {  पुराने पन्ने से ---}

       पीहर से मेरे प्यार का पैगाम भेज देना ,
          जीता हूँ या हारा,  परिणाम   भेज देना --

मेरा   नसीब   आप हैं , बेबे   ने   लिख   दिया ,
  गुलशन का एक हसीन गुलबापू  ने  चुन लिया ,
    परियों सी मेरी बहना ने,एक बिंदिया चुरा लिया ,
      लक्षमण  सा   वीर   स्नेह  दे ,सीता   बना  लिया ---

   *  दिल की हमारी  जीत तो ,इनाम भेज देना ----

खिलती है मेहदी हाँथ में जब प्यार मिल गया ,
   पूरी   हुयी   मुराद   सोणा  यार   मिल   गया ,
     रुत  जली , खफा   हुयी , वफादार  मिल  गया ,
       रब    का   तेरे  रूप  में ,   दीदार   मिल    गया ,

     *  हसरत है पूरा करने की , अरमान भेज देना ---

सुर्ख  जोड़ा  मांगता  है , कश्मीर   की  फिजा ,
  पाजेब    मांगती    है ,   पंजाब     का     गिद्दा
   कंगन     मांगता    है ,    बंगाल      का      जादू ,
      मंगल     मांगता    है  , संसार     की      खुशियाँ ,

    *   ये मिलते नहीं उधार में , दाम भेज  देना ---

     देख लेगा ये जमाना ,ख़त गुमनाम भेज देना ,
        बदले   में  मेरे प्यार के ,सतनाम   भेज  देना ---

                                                         उदय वीर सिंह .



9 टिप्‍पणियां:

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

देख लेगा ये जमाना,ख़त गुमनाम भेज देना ,
बदले में मेरे प्यार के,सतनाम भेज देना

दिल को छूने वाली रचना है उदय जी
आभार

Arunesh c dave ने कहा…

सुंदर रचना आखिरी पंक्तिया तो कमाल की है

रचना दीक्षित ने कहा…

देख लेगा ये जमाना,ख़त गुमनाम भेज देना ,
बदले में मेरे प्यार के,सतनाम भेज देना

क्या खूब लिखा है मन की गहराइयों से लाजवाब

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी रचना बहुत अच्छी लगी।
--
पितृ-दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कोमल भावो को संजोया है इस रचना में ..अच्छी प्रस्तुति

निवेदिता ने कहा…

सरल शब्दों में अच्छी प्रस्तुति.....

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

सुंदर भावभीनी रचना ।

Rajeev Bharol ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना है उदय जी. बहुत बहुत बधाई..