शनिवार, 19 मार्च 2011

***होली -तो होली ***

           [होली के बहु प्रतीक्षित आगमन  का स्वागत करते हुए समस्त प्रबुद्ध स्नेहियों  को मेरे एवम मेरे परिवार की  तरफ से शुभ  कामनाएं ,
                 स्नेह ,रंग ,गुलाल का आभार  पहुंचे /.वाहे गुरु ,सबको इज्जत ,मान,प्यार ,भरोषा ,सत्कार बख्से  /,दुःख  कभी न आये , दुःख में,
                 सहभागी बनें ,दुःख के  निवारण का कारन बने , मानव- मात्र  पीड़ा से मुक्त ,विकास की ओर उन्मुख हो / बहारों के मेले में एक कदम 
                  हमारा  भी ,होली प्रणाम के साथ बहुत -बहुत प्यार मित्रों --------- ] 

      ह्रदय   के   भावों   का   मुखर  उद्दगार   है   होली   
         बरसते   प्यार   के  रंगों  का   त्यौहार   है    होली  ----
           सन्देश     है   चिंतन     का    ,  आकलन    का         ,
             विश्वास   की   नाव     की     पतवार    है      होली     --------                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                            

    मिलन   है ,  अपनापन  है ,   नयापन   है ,
      प्रतीक्षित  प्यार  का  सुन्दर  उपहार है होली ----
       सुगंध  है मकरंद  है , अनुबंध  है,  सम्बन्ध  है ,
         खिले  अनमोल  फूलों  का  , बाज़ार  है    होली ------

  धर्म है , आधार   है , संस्कृति  है  समन्वय   है ,
     सहृदयता है,विनयता है,रसिक संसार है होली---- ,
        होली   रंग      है ,   अनंग     है ,  सत्संग    है  ,
          बहती  प्यार  की  सरिता   का  आधार  है   होली -----

    होली  राम   है , कृष्ण है , राधा  है  ,सीता है ,
       रामायण  है, कुरान है, बाइबल  है,  गीता  है ---   
         अभिजात्य है,अबिभाज्य है घुलनशील है,रग में ,
            हटाकर  बैर  का पर्दा,      प्रेम  की   प्रणेता     है ----

   झुग्गी -  झोपड़ी   ,महलों   में  ,कोटरों    में  ,
      भरती मधु  -कुक ,नव उत्साह की सृजेता  है -----
        शुभ है ,दर्शनीय  है ,अभिषेक  है    आनंद  है ,
           समभाव  है  चेतन ,अहंकार  पर  विजेता  है -----

 हास है ,परिहास है ,    अधिकार  है   होली ,
     टूटते नेह  को जोड़े वो   हथियार   है  होली ---
        निर्झर बहारों    का ,मधुर संगीत  यारों   का ,
          रसीले  बादलों से  झरती   फुहार    है  होली -----

 टूटते मूल्य,बिखरता स्वप्न,दरकती आस्था  ,
     आँखों     का      सूनापन     सवाली      है  ----
       भीगती  आँखें  बे-रंग ,चाहत  है मानाने  की ,
         प्रतीक्षा  है ,क्या  हुआ   दामन   जो  खाली  है ---

  संवेदना  है ,विवेचना है ,आत्म -चिंतन है ,
    निवेदन  है ,  स्वीकार्यता  है ,  समर्पण    है -------
      प्रतिविम्ब  है ,प्रतिज्ञां है ,पहचान  है युग  की,
       रुब -रु  कराती   स्वयं    से  ,निष्पक्ष  दर्पण है ----

हुंकार है ,प्रतिकार है शौर्य है ,संस्कार है ,
   खेली गयी आँगन में ,कानन  में बागन, में ---,
     प्रेम  -भूमि में ,कर्म-भूमि  में, रण- भूमि  में ,
       खेला वीरों ने, वीरांगनाओं ने आन में,सम्मान में ,--

समायी  रग़ -रग़ में  ,संचार  है ,सदाचार   है   होली ,
   बांचो प्यार से,ले नेह का चश्मा,शुभ-समाचार है होली --
     अतिरंजित    न    हो    खून   से  ,  रंग     के      बदले ,
        उदय प्रेम  देकर,  प्रेम लो , निश्छल, व्यापार, है ,होली -----

                                                       उदय वीर   सिंह     
                                                           18/03/2011

  



               



6 टिप्‍पणियां:

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

होली पर बहुत ही सुन्दर कविता है !
होली प्यार का संदेश है...मिलन है...अपनापन है... नेह को जोड़े वो हथियार है होली ....
कोई यह बात जाने तो !!!

होली मुबारक!

मंजुला ने कहा…

धर्म है , आधार है , संस्कृति है समन्वय है ,
सहृदयता है,विनयता है,रसिक संसार है होली---- ,
होली रंग है , अनंग है , सत्संग है ,
बहती प्यार की सरिता का आधार है होली -----


बहुत बढिया...सुन्दर कविता .
आपको होली की शुभकामनाये
...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

हुंकार है ,प्रतिकार है शौर्य है ,संस्कार है ,
खेली गयी आँगन में ,कानन में बागन, में ---,
प्रेम -भूमि में ,कर्म-भूमि में, रण- भूमि में ,
खेला वीरों ने, वीरांगनाओं ने आन में,सम्मान में ,--
holi ki shubhkamnayen

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

हास है ,परिहास है , अधिकार है होली ,
टूटते नेह को जोड़े वो हथियार है होली ---
निर्झर बहारों का ,मधुर संगीत यारों का ,
रसीले बादलों से झरती फुहार है होली--

शब्द-शब्द फागुनमयी सुन्दर अभिव्यक्ति हैं ...हार्दिक बधाई

रंगपर्व होली आपको असीम खुशियां प्रदान करे..... शुभकामनायें !

Kailash C Sharma ने कहा…

समायी रग़ -रग़ में ,संचार है ,सदाचार है होली ,
बांचो प्यार से,ले नेह का चश्मा,शुभ-समाचार है होली --
अतिरंजित न हो खून से , रंग के बदले ,
उदय प्रेम देकर, प्रेम लो , निश्छल, व्यापार, है ,होली -----

बहुत सुन्दर रचना..होली का सार्थक सन्देश देती हुई..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

क्षितिजा .... ने कहा…

आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं