रविवार, 19 अगस्त 2012

हस्तांतरण था !

हाँ !
ये आजादी नहीं ,
सत्ता का हस्तांतरण था ,
शासकों का ,
काले -गोरे अंगरेजों का ,
लाभ -हानि  का खेल ,
हित टकरा गए ,
खिंच गयीं शमशीरें
मारे  गए निर्दोष ,जज्जबाती शेर ,
पिस गयी निरीह आवाम /
न समझ पाए षडयंत्र ,
सत्ता के दलालों का /
आजादी चीख बन कर दब गयी ..
अट्टहासों में ......../
मुक्त से उन्मुक्त हो गया
भय ,भूख ,अन्याय, शोषण
बंध कड़े हो गए ,
शिक्षा, समानता, मनुष्यता व विचार के /
क्या फर्क है ?
कल भी थी
दीनता , दैन्यता ,लाचारी ,
आज भी है ,
कल भी बिक रहे थे ,
पद ,प्रतिष्ठा ,बैजयंती ,
आज भी ..../
कल भी गुलाम थे ,
संसाधन ,मेधा ,पौरुष
आज भी ..../
रोटी कपड़ा मकान ,
सपना था ..
आज भी ...../
कल भी जा रहा था ,
वैभव ,भारत से दूर ,
आज भी बदस्तूर जारी  है /
कल कफ़न नहीं था शहीदों को,
आज कोफीन में  दलाली है../
कल भी सवाली था,
आज भी सवाली है.../
कल भी  हाथ,
खाली  था ,
आज भी खाली  है ..../
देश  पूछता है ,
किसकी होली , 
किसकी  दीवाली है ......./

                              उदय  वीर सिंह
                                 19/08/2012

                        

                                


7 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

लगता है आजादी नही बल्कि सता का हस्तांतरण हो गया है,,,,
RECENT POST ...: जिला अनुपपुर अपना,,,

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

ईद मुबारक !
आप सभी को भाईचारे के त्यौहार की हार्दिक शुभकामनाएँ!
--
इस मुबारक मौके पर आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (20-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

expression ने कहा…

गहन रचना....
विचारणीय पोस्ट...
सादर
अनु

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कुछ नहीं बदला है, यही लगता है..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

लगता तो यही है की बस हस्तांतरण ही था

सुशील ने कहा…

पहले शायद अच्छा था
जो बताया जाता था
अपने घर को बेचने
पहले कोई नहीं जाता था !

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बहुत सटीक.....