शनिवार, 30 जुलाई 2016

कुछ मर्म छिपे हैं उर मेरे

कुछ पाँवों में बंधन हैं ,
चलने वो नहीं देते -
कुछ मर्म छिपे हैं उर मेरे
कहने वो नहीं देते -
कुछ शब्दों की बाधा है
रचने वो नहीं देते -
खट-राग बसे हैं होंठो पर
बहने वो नहीं देते -
वायु प्रहारों में दीपक है
जलने वो नहीं देते -
फिर भी प्रीत का बंधन है
पग रुकने वो नहीं देते -
उदय वीर सिंह

3 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (31-07-2016) को "ख़ुशी से झूमो-गाओ" (चर्चा अंक-2419) पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

GathaEditor Onlinegatha ने कहा…

Enjoy your friendship day with 20% off on book publishing with OnlineGatha:https://www.onlinegatha.com/

Asha Saxena ने कहा…

उम्दा लिखा है सर |