गुरुवार, 19 जुलाई 2012

मुहब्बत में हम थे -

















                                       नसीहत    में     हम  थे , 
                                       सियासत   में  तुम   थे -
                                       हुयी       भूल       हमसे ,
                                      मुहब्बत    में    हम   थे -


लिखी  दासता  जिनको
पढ़ना      न          चाहा,
दामन   में    मेरे  , कांटे
क्या           कम         थे-


                                    आँखों      में     ले      ली
                                    जनम     की       उदासी,
                                    ज़माने      ने     दे      दी ,
                                    जो  ज़माने   के  गम  थे -


मेरी   ही  लिखी  शायरी
चल          रही          थी
दाद  ,   दे      न       सके,
कि  शराफत  में  हम थे -


                                    वो      कहते    रहे ,   हम
                                    भी         सुनते           रहे ,
                                    सुना  न    सके    कितने
                                    मेरे         सितम          थे-


हसरत      का       सावन
बरसता                    रहा ,
पेंग ,   झूलों    को    देकर
खड़े ,     दूर      हम      थे-


                                                 उदय वीर  सिंह  


   

12 टिप्‍पणियां:

expression ने कहा…

वाह वाह....
बहुत खूबसूरत.......

सहज,सरल और सीधे दिल में उतरती.....

सादर
अनु

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत खूब, हम क्या न रहे, हम क्यों न रहे?

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

हसरत का सावन
बरसता रहा ,
पेंग , झूलों को देकर
खड़े , दूर हम थे-


वाह बहुत सुंदर

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

@मेरी ही लिखी शायरी चल रही थी
दाद दे न सके कि शराफत में हम थे

- ऐसा भी होता है, शराफ़त का ज़माना कहाँ है!

रविकर फैजाबादी ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति |
समझ समझ की बात है-
चलो ऐसा ही सही-
हसरत का सावन
बरसता रहा ,
पेंग , झूलों को देकर
खड़े , दूर हम थे-

सुशील ने कहा…

नसीहत में हम थे ,
सियासत में तुम थे -
हुयी भूल हमसे ,
मुहब्बत में हम थे -

उदयवीर जी का जवाब नहीं बहुत सुंदर !!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

हसरत का सावन, हरा ही हरा है।
मुहब्बत का इसमें, समन्दर भरा है।।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

हसरत का सावन, हरा ही हरा है।
मुहब्बत का इसमें, समन्दर भरा है।।

Rajesh Kumari ने कहा…

मेरी ही लिखी शायरी
चल रही थी
दाद , दे न सके,
कि शराफत में हम थे -
वाह वाह क्या बात है

हसरत का सावन
बरसता रहा ,
पेंग , झूलों को देकर
खड़े , दूर हम थे-
लाजबाब

अरुन शर्मा ने कहा…

वाह क्या बात है, अति सुन्दर
(अरुन शर्मा = arunsblog.in)

Reena Maurya ने कहा…

नसीहत में हम थे ,
सियासत में तुम थे -
हुयी भूल हमसे ,
मुहब्बत में हम थे -
बहुत बहुत सुन्दर :-)

शिवनाथ कुमार ने कहा…

आँखों में ले ली
जनम की उदासी,
ज़माने ने दे दी ,
जो ज़माने के गम थे -

सुंदर ..
बेहतरीन ...