सोमवार, 9 जुलाई 2012

प्रत्यार्पण



रहने       दो   , उनके    पास   मुझे 

जो      हाथ ,  मुझे      छू    लेते  हैं 
सुन    लेते ,   कुछ    मेरी     बीती ,
कुछ   अपनी   बीती ,  कह  लेते हैं -


मैं       हूँ      बंद        अंधेरों       में 
वो     खुली    स्वांस    जी   लेते हैं ,
बीता   आज  , कल    की     देखेंगे 
प्रतिकार    शून्य  ,  सो     लेते   हैं -


मांगा     बन्दों    से    मिला    नहीं ,
अब      ईश्वर    से   कह    लेते   हैं 


टूटी    -   फूटी  ,    भाषा ,    उनकी      ,
हास्य  ,   करुण    का   ज्ञान  नहीं ,
अलंकार, समास  लय- ताल  नहीं,
शब्द , व्याकरण   का,  भान  नहीं ,


सीधी    सरल,  सपाट , मृदु  वाणी ,
संवाद     हृदय     से    कर   लेते हैं -


बेढब   फर्श  ,  हृदय    समतल    है .
बाँहों       में       प्यार    उमड़ता  है 
रंग - महल  और   इन्द्र  - सभा  से 
दूषित       मन      हो      उठता   है -


मदिरा  की   गागर, भद्र -जनों  को ,
वो      छाछ      धेनु     का   पीते  हैं -


वो    अभिशप्त   हुए, हम  तृप्त   हुए 
श्रम  उनका,   मालामाल  हुए  हम ,
दैन्य -  दीनता   उनकी    न    गयी,
वो    भूखे    हैं , खुशहाल   हुए  हम -


आशा   में  ,सुखमय   दिन  आयेगे 
प्रतीक्षा        में        जी       लेते   हैं-


ईश्वर    के    घर  की चिंता में,  हम
विकल     हुए    हम   व्यथित  हुए
ईश्वर   के     बनाये      मानव     में,
भेद      भांति      के    सृजित    हुए-


जो   गति , विकास  की  आहुति में 
जन्म     न्योछावर    कर    देते   हैं-


पाकर        के       ऊँचाई        इतनी   
दृष्टि   की     क्षमता ,  न्यून     हुयी ,
असह्य      वेदना   ,  पीर       परायी ,
देख         संवेदना        मौन      रही-


संज्ञा   - शून्य  ,  संकीर्ण    विथियाँ ,
मानस        में        भर      लेते     हैं -

याचित       आँखें   ,   मौन     अधर ,
हम   दे न   सके,  दो   शब्द    मृदुल,
प्यासे     ह्रदय       से      दूर       रहे      
बन   न   सके  , रस,,-धार   सलिल -


निधियां    रखते   तालों   में     हम  
वो     खुली     आँख     रख   लेते  हैं - 


छल -  प्रपंच , व्यतिरेक,  कुटिलता ,
पाई            मेरे           आँगन      से ,
बुहारी,         पाई   ,        ले        गए ,
लौटाई   मय   व्याज, श्रद्धा  मन  से -


उगाते     फसल  ,   दाने     तो    मेरे ,
अवशेष       उन्हें ,   दे        देते     हैं -


सह    लेते     दुःख    प्रारव्ध   समझ 
दस्तक नाकाम ईश्वर के दरवाजों से,
पूछता     रहा   भाग्य   का   पैमाना ,
हैं  अनुत्तरित   प्रश्न   , रचनाकारों  से -


विकल्प    मेरे    हैं     सुरा    , अमृत 
अविकल्प     गरल     वो    पीते    हैं -


                                           उदय वीर सिंह 
                                              09/07/2012
   










8 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर कविता..

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर....भावपूर्ण रचना..
सादर

अनु

रविकर फैजाबादी ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति |

बहुत बहुत बधाई ||

संध्या शर्मा ने कहा…

मांगा बन्दों से मिला नहीं ,
अब ईश्वर से कह लेते हैं
गहन भाव... सुन्दर प्रत्यार्पण...

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १०/७/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आप सादर आमंत्रित हैं |

dheerendra ने कहा…

सह लेते दुःख प्रारव्ध समझ
दस्तक नाकाम ईश्वर के दरवाजों से,
पूछता रहा भाग्य का पैमाना ,
हैं अनुत्तरित प्रश्न,रचनाकारों से -

बहुत भाव पूर्ण अभिव्यक्ति,,,,,बधाई

RECENT POST...: दोहे,,,,

Sanju ने कहा…

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.

अल्पना वर्मा ने कहा…

बीता आज , कल की देखेंगे
प्रतिकार शून्य , सो लेते हैं -

वाह!वाह!!
बहुत ही अच्छी कविता है.