सोमवार, 1 अक्तूबर 2012

खुदा भी वाकिफ नहीं.....


















लिखने वालों ने शमशान को शहर,प्यार को
अदावत   तो,   अमृत   को,   जहर    लिखा-


फूल   को    पत्थर  , कभी    नस्तर   लिखा
शाम   को  सवेरा ,  प्रभात  का  प्रहर लिखा -

जब समां  रहा था सूरज ,शाम  की  गोंद में,
 खुबसूरत    प्रभात     का ,  शहर       लिखा -

नज्म     को     हारी    हुयी    बाजी,    कभी 
कलम     को  ,   बिष    बुझा  खंजर   लिखा-

इबादतखाने  को   दोजख ,साकी  को अदब 
महफिलों को हयात ,जाम को रहबर लिखा,

मुद्दतों से बीरान रौशनी गाफ़िल,खंडहर को
महफिलें  रंगीन  करता, नायाब  घर लिखा-

हैरान  हैं आँखे  पढ़  कर ,जो   देख  न  सकीं ,
खुदा भी वाकिफ नहीं जिससे वो मंजर लिखा -

                                              उदय वीर  सिंह 
                                                 30/09/2012
  

3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्यारा लिखा, गजब लिखा।

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना..

haiku lok ने कहा…

ਬਹੁਤ ਹੀ ਵਧੀਆ ਰਚਨਾ !