रविवार, 23 जनवरी 2011

## नैपथ्य तुझे उठना होगा ##

                         मन  के  भाव , अंतर  की   पीड़ा , आज    तुम्हें    कहना   होगा ,
                          मंचित   हो  हर  कथा ,   व्यथा , नैपथ्य  ,   तुझे    उठना  होगा ------
मत   कह ,  सब  अपने  मन   की , तुमको  भी  सुनना  होगा ,
जीवन -पथ  केवल  मुस्कान  नहीं , कुछ कांटे  भी चुनना होगा /
रीत  वल्लरी , प्रीत बनी कब ? जब  चली  अम्बर की  गहराई ,
बिना   नीर  जीवन   कब  संभव ?  नेह -  भरे  नैनों  से    पाई  /
                          क्या छूट गया संज्ञान न  कर , क्या पाना है गुनना   होगा ,
                         होंगे  तिमिर  , विषम  पथ , कांटे ,सहते  दर्द चलना होगा -------
अंग -वस्त्र  क्या  सह पाते , तीक्ष्ण ,  कंटक  की धारों को ,
रक्त -बूंद  रिसते  रहते , तन  सहता  सतत  प्रहारों    को /
                            लौट  सके  ना  कहे  शब्द , नव  शब्द  वृहद्  गढ़ना  होगा ,
                             मानस   मूक  नहीं  होता , निःशब्द , पदों  को पढ़ना होगा ---------
मन  के  भाव  सृजन  बन  जाएँ , अंगार  ना  हो शीतल  पानी  /
स्नेह , आशीष  अभिशप्त   न  होए , प्यार  अमर ,जीवन फ़ानी /
                           कितने   अंक   प्रत्यासा  में ,  वरण   एक  करना   होगा ,
                           सतत  चले , रुकने  की  हसरत , बहुत  चले रुकना होगा -----
मुस्कान  होंठ पर खिली हुई ,विष भरा ह्रदय ,मद -प्याला है  /
अंतर  में  खंजर , छुपा हुआ ,  बाहें   कपट     की  शाला है   /
                           अन्दर क्या है?  बाहर क्या है ? स्पस्ट तुमें   करना  होगा ,
                           भ्रम में जीना मृग -तृष्णा है ,मरू -भूमि कब  झरना होगा ?-------
तरकश  के  तीर  हरण  जीवन को ,विष बुझे, यत्न से सजे गये  ,
लक्ष्य ?  मौत   निश्चित  करने  को , वरदान  शूरों  से लिए गये  /
संधान  हेतु  सम्विग्य  ज्ञान , अपराजेय  विन्दु  का  निर्धारण ,
अपनी   भाषा,   परिभाषा , संवेग - सून्य  हठ   का      कारण       /
                             विकल नहीं तो विकल बनों , जो  कह ना  सके  कहना होगा ------
                             अनावृत  हो  छद्म  आवरण  ,  नैपथ्य,   तुझे   उठना  होगा ------

                                                                      उदय वीर सिंह
                                                                       २३/०१/२०११
                                  
                                    

4 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (24/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
http://charchamanch.uchcharan.com

Kailash C Sharma ने कहा…

विकल नहीं तो विकल बनों ,
जो कह ना सके कहना होगा -----------,
अनावृत हो छद्म आवरण ,
नैपथ्य, तुझे उठना होगा ----------

बहुत प्रेरक भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत सुन्दर

ZEAL ने कहा…

बहुत ही ओजपूर्ण एवं प्रभावशाली रचना !

जेन्नी शबनम ने कहा…

behad prabhaavshaali aur utkrisht rachna, badhai.