शुक्रवार, 21 जनवरी 2011

सेल्युलर (पनाह )

प्रिय मित्रों ,
        स्वतंत्रता के हवन  कुण्ड   में  हमारे  प्यारे  देश   के, लाखों वीर सपूतों ने ,अपने  प्राणों की आहुति दी ,जिसका हम मोल 
कई जन्म लेकर भी नहीं चूका सकते / इसी कड़ी में यातनाओं की, बर्बरता की ,बेइंतहा जुल्मों की क्रूरतम स्थली  के रूप  फिरंगियों ने अंडमान के हृदय -स्थल में सेल्युलर -जेल को विकसित किया  / जिसको  काले -पानी की सजा की , संज्ञा दी गयी है / अंडमान के चारो तरफ हजारों मील तक फैला  समुद्र , भाग कर कोई मौत ही पाता ,अन्य छोटे  टापुओं  पर पानी नहीं ,विषैले जीव -जंतुओं का निवास ,इसके बावजूद सतत निगरानी / कोई राह नहीं बचने की /  इससे भी उनका भय समाप्त नहीं हुआ ,देश-प्रेमियों की नजरें उन्हें तीर सी चुभती थीं /  कृशकाय तन ,परन्तु अंगार बरसाती आँखों ,बुलंद हौसलों ,देदीप्यमान भालों से ,इतना डर था कि सेल्युलर (कोशों वाली ) कारागार का निर्माण करना पड़ा  / ७ गुने १३ की काल-कोठारियों में सालों /आजीवन कारवास , की सजा  भारत  माँ के सच्चे लालों ने अंतहीन यातनाओं  के साथ कैसे बिताये ,वर्णित नहीं किया जा सकता  /महसूस किया जासकता है / ऐसे समय में ,वातावरण में ,मनुष्य विक्षिप्त हो जाता है ,किन्तु महासागर सा दिल रखने वाले स्वतंत्रता के ध्वज-वाहक इंक्लाव / वन्देमातरम के गीत गाते रहे /  फिरंगियों की कारा (सेल्युलर ) अमर सपूतों के लिए 
छाँव  बन गयी / देश -प्रेम  का आँगन बन गया  ,जहाँ से लौ बुझी नहीं ,अनवरत जलती रही देश-प्रेम ,वलिदान की /
           हमने टूटी-फूटी भाषा में सजाने की नहीं ,बस हृदय में उतारने की कोशिश की है , मन के भावों को पहचान  देने की चाहत है ,शायद स्वीकार होगी  ---------
                               सेल्युलर तेरी शान में ,हम कुछ नहीं कहते ,
                               तेरी पनाहों में ,मशाल-ए -हिंद  जला करते हैं /
                                        ***---------******-------******
                      सेल्युलर तेरी कोख में ,
                      शमां रोशन रही देश-प्रेम की ,
                     तेरी बांहें देती रही उर्जा 
                      मिटने की  ,
                      भारत माँ की वलि- वेदी  पर /
                      अंतहीन गाथा ,वेदनाओं की ,
                      जालिमों की ,जुल्मों की  /
                     ना डिगा सके पग पीछे ,
                     जो खायी थी कसम ,वतन की राह में /
                      *छीन ली सूखी रोटियां ,देकर ,
                      बनाये कोल्हू के बैल ,जलता तन ज्वर में ,
                      फिर भी चलती  चक्कियां ,
                      बिन वस्त्र , तोड़ते पथ्यर ,
                      प्यासे हाँथ रुके नहीं ,
                      की बरसते कोड़े ,दे जाते अथाह पीड़ा ,
                      फूटता फौव्वारा खून का ,
                      छिडकते नमक ,जख्मों पर ,मरहम की जगह /
                                 तेरी आँखों ने देखा था न !
                      वीर सावरकर ,भान सिंह,शेर अली  की ,
                      गूंजती ,हुंकार भरती ध्वनि ----
                       इंक्लाव की  /
                      फिरंगियों के जुल्म ,
                      उर्जा बन गये प्रहार के /
                      चुमते गये ,फांसी के फंदे ,
                      ना छुए आततायियों के पैर ,
                      गाते रहे अलमस्त ----सहजादे देश - प्रेम के ----
                      वन्दे मातरम / 
                             ********
                            तू कितना ,भग्यवान है ,
                     दिल चाहता है चूमने को तेरी -दरो-दिवार को ,
                     तेरी छांव में बीते थे दिन अमर शहीदों के /
                      तेरे आंगन  में खनकीं बेड़ियाँ उनकी, 
                      तेरी गलीयों सेगुजरे  दीवाने  गाते हुये ,-----(देखना है जोर कितना -----------
                     तू  अंत समय के साथी !
                     छुआ था उनके घावों को ,मखमली पवित्र  पांओं को ,
                      तेरे आंगन से गुजरा कारवां उनका  ,
                      जो चलता गया ---------
                       मिटता गया --------
                       *************
                         तू तीर्थ है ,अमीर है ,शाह-ए तकदीर है ,
                         तेरी पनाह से हंसते -हंसते ,
                          मेरे वीर गये --------------

                                                                           उदय वीर सिंह 
                                                                            ( पोर्ट ब्लेयर  से  )

                      

                     




                      

2 टिप्‍पणियां:

Kailash C Sharma ने कहा…

तू तीर्थ है ,अमीर है ,शाह-ए तकदीर है ,
तेरी पनाह से हंसते -हंसते ,
मेरे वीर गये --------------


सेल्लुलर जेल को देखने के बाद आँखें नम हो जाती हैं..कितनी कठोर यातनाएं सहीं हमारे देशभक्तों/शहीदों ने..बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति..

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

सेलुलर जेल और अंडमान पर आपकी प्रस्तुति अछि लगी...हम तो अंडमान में ही हैं, सो रोज ही इनसे दो-चार होते हैं. कभी 'शब्द-शिखर' पर भी पधारें.