शनिवार, 1 जनवरी 2011

***पथ - प्रयाण***

              नव   प्रभात   की   बेला   ,सजाये  थाल   कुंदन  सा  ,
              भर     लें    अंक -  भर    खुशियाँ   ,नजराना   ऐसा  ------------

                                       नए  विहान  का  सूरज  ,जलाये   ज्ञान  की  ज्योति  ,
                                       ढूंढ़   लें    प्यार     का   संगम  ,  शर्माना     कैसा  -----------

                                       संभव     साध्य   होता  है  , पाकर  प्यार   का   संबल   ,
                                       असंभव  कुछ  नहीं  होता  , जो   कशिश हो  मुकम्मल   , /

            सदायें   वरस   जाती   हैं  ,प्रभु  से  मांग  तो कीजै ,
            छलका   नेह    बन    सागर,   तो   इतराना    कैसा  -------------------

                                          हौसला  चाँद   छूने   का  ,एक  उछाल    तो  मारो
                                          हर   मंजिल  फतह  होगी  ,एक  संकल्प  तो  पालो     /

            कम्पित  हो  उठे  जलराशि  ,जब विजय  का  हो  मंथन  ,
            उठे    तूफान    सागर    में   ,  तो       घबराना     कैसा    --------------------

                                  उत्सव    हो ,  ख़ुशी     हो  ,  उमंग    हो      आँगन   ,
                                  वर्षा प्रेम  की , आशीष  की   गुलों  से  भर  उठे   दामन   /

               सजाये  -मौत  मिलती  हो  , अमन  वो  चैन   के  बदले  ,
               उदय     मांग    ले     हंस    के    ,  ठुकराना        कैसा    ------------------

                                                                            उदय  वीर  सिंह  
                                                                            1st.जन . 2011






        

2 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय उदय वीर सिंह जी
नमस्कार !
वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.

संजय भास्कर ने कहा…

सुंदर भावपूर्ण रचना के लिए बहुत बहुत आभार.