बुधवार, 26 जनवरी 2011

*****सलीब भी टूटी सी *****

हसरत     है    देना     ख़ुशी    आलिमों !
हृदय    में    ग़मों    की   रियासत    रहे ---------

कर    सकें    आचमन    नेह  भीगे नयन ,
मन    मंदिर    में   तेरी    विरासत    रहे  --------

हो    चले   गम -जदा,  तेरी  यादों  में  फिर ,
छोड़   आये  जो  दर , फिर  भी  चाहत  रहे ------- 
                                  ना  टूटी   सलीबों  से  लटकायिये  ,
                                                        कुछ   मुकद्दर   में  मेरी,  इजाफ़ा  तो  हो  / 
चैन  से     अलविदा   कह  चलें     आपको  ,
लौट  आने  की  कोई   ना    आहट      रहे  ---------
                                     आस    सेमल  के  फूलों  से  क्या  कीजिये ,
                                                         फल    लगते  नहीं  फूल   खिलते   नहीं / 
शुक्रिया    आपका  भ्रम   में   जी  तो लिया  ,
राहें    रोशन ,  अमर    ये   सियासत    रहे  -------

उम्र    छोटी   हो  जुल्मों   की ,  तो  मांगिये  ,
हंस    के  देंगे  ,  सदा   तू   सलामत      रहे ---------

                                                           उदय वीर सिंह 
                                                           २६/०१/२०११ 

3 टिप्‍पणियां:

Akshita (Pakhi) ने कहा…

वाह, यह तो बहुत सुन्दर कविता है..अच्छा लगा यहाँ आकर....'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है .

वन्दना ने कहा…

हसरत है देना ख़ुशी आलिमों !
हृदय में ग़मों की रियासत रहे ---------

कर सकें आचमन नेह भीगे नयन ,
मन मंदिर में तेरी विरासत रहे --------

वाह! बहुत सुन्दर भाव समन्वय्।

: केवल राम : ने कहा…

आपकी कविता का हर शब्द एक गहरा भाव लिए है ....बहुत सुंदर