शनिवार, 13 नवंबर 2010

* सांझी- डगर *

टूट जाये जो ,छुट जाये जो  ,वो करार ना करो  ---
ये  जीवन  है ,चलता रहेगा , इंतजार ना करो -------
         ****     *****    *****   ****
               सुख और   -दुःख   दोनों    जीवन में आंएगे    ,
               कोई    देगा   ख़ुशी   कोई ,  दर्द लेके जांएगे   /
               असहज   पलों को  हम प्यार  से    बितांयेगे ,
               देनी   पड़ी  जिंदगी, तो  हंस  के   दे   जांएगे /
बिक जाये  जो, मिट  जाये जो ,  स्वीकार  ना करो   -------
प्यार   पूजा है,  पूजो इसे , व्यपार  ना  करो   -----------
               जीवन   का    रूप  कभी  धूप ,  कभी  छांव है  ,
               अभी है   यहाँ ,तो   कभी दिखी  दूजी ठांव  है /
               गम-ए -जन्दगी   को अपणे प्यार का सहारा हो ,
               हंसते   चमन   में   बस ,प्यार   ही   हमारा हो   /
जो सपने है ,उन्हें  बुनने हैं ,इंतजार  ना  करो   ------------
राह  रोशन  सदा, जगमगाती रहे  ,अंधकार ना करो   -----------

                                            उदय वीर सिंह .
                                            १३/११/२०१०  

4 टिप्‍पणियां:

क्षितिजा .... ने कहा…

गम-ए -जन्दगी को अपणे प्यार का सहारा हो ,
हंसते चमन में बस ,प्यार ही हमारा हो /

बहुत सुंदर रचना ...

क्षितिजा .... ने कहा…

bahut khoob ..

ehsas ने कहा…

umda post. aabhar.

ZEAL ने कहा…

सुंदर रचना !